Home

क्या होती है मातृभाषा?

एक प्रश्न है जो मुझे काफी समय से उलझाए हुए है। प्रश्न है कि मातृभाषा की क्या कोई स्पष्ट परिभाषा आज के युग में दी जा सकती है? यह सवाल मेरे मन में तब उठा जब शिक्षण संबंधी कई अध्ययनों ने सुझाया है कि बच्चों की पढ़ाई का माध्यम मातृभाषा होनी चाहिए।

 यह प्रश्न मेरे दिमाग में उठा कैसे यह स्पष्ट करता हूं: एक समय था जब अलग-अलग भाषाभाषी समुदाय भिन्न-भिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में रहते थे। वे समुदाय इतना अधिक परस्पर मिश्रित नहीं होते थे कि किसी को भी सुबह-शाम दूसरे समुदाय की भाषा से वास्ता पड़ता हो। कुछएक शब्द एक भाषायी समुदाय से दूसरे समुदाय की भाषा में यदा-कदा चले जाते थे, किंतु इतना अधिक मिश्रण नही हो पाता था कि संबंधित भाषा पूरी तरह विकृत हो जाए। पैदा होने के बाद लंबे अर्से तक किसी भी बच्चे का सान्निध्य एवं संपर्क कमोबेश अपने समुदाय तक ही सीमित रहता था, जब तक कि वह बाहरी समुदायों के बीच नहीं पहुंच जाता था। ऐसी स्थिति में ऐसे बच्चे की भाषा उसके अपने समुदाय की भाषा ही होती थी, उसी का प्रयोग वह दैनंदिनी कार्यों में करता था। उसको हम निस्संदेह उसकी मातृभाषा अथवा पैतृक भाषा मान सकते हैं।

इस आलेख में हिन्दी से मेरा तात्पर्य “खड़ी बोली” से जिसे आप हिन्दी का मानक कह सकते हैं। अन्यथा अन्य भाषाओं की तरह हिन्दी भी सर्वत्र एक जैसी नहीं बोली जाती है। स्थानीयता का कुछ असर रहता जरूर है।

लेकिन आज स्थिति एकदम भिन्न है। कल्पना कीजिए कि एक व्यक्ति मूलतः बांग्लाभाषी है, बांग्लाभाषी क्षेत्र में रहता आया है, और घर के सदस्यों के साथ एवं परिवेश के लोगों के साथ बंगाली में वार्तालाप करता है। वह व्यक्ति नौकरी-पेशे में बेंगलूरु या मैसूरु पहुंच जाता है, जहां उसके संतान जन्म लेती है। कल्पना कीजिए कि वहां उसे मुख्यतः कन्नडभाषियों के बीच रहना पड़ता है, लेकिन अड़ोस-पड़ोस में हिन्दीभाषियों की संख्या भी पर्याप्त है, जो या तो मूलतः हिन्दीभाषी हैं या अलग-अलग प्रांतों से आए लोग हैं जो परस्पर हिन्दी या अंग्रेजी में संपर्क साधते हैं। बच्चे के जन्म के बाद शुरुआती दौर में मां-बाप उससे बंगाली में ही बातें करते हैं। परंतु यह पर्याप्त नहीं। शैशवावस्था तथा बाल्यावस्था के विकास की प्रक्रिया पेचीदी होती है और यह बात बच्चे के भाषायी ज्ञान पर भी लागू होता है। प्रायः सभी कुछ अस्थाई होता है किंतु जिन वस्तुओं एवं क्रियाओं को बच्चा बारबार देखता-सुनता है और जिन्हें अभ्यास में लेने लगता है वे मस्तिष्क में स्थायित्व ग्रहण करने लगती हैं।

अब देखिए जैसे-जैसे बच्चा साल-छ:माह का और उससे बड़ा होने लगता है, परिवार से मिलने वाले पड़ोसी उससे अपने-अपने तरीके से बातें करते हैं कोई कन्नड में तो कोई हिन्दी में अथवा अंग्रेजी में। संबंधित शब्द एवं ध्वनियां भी उसकी भाषा में जुड़ने लगते हैं। परिवेश बदलता जाता है और बच्चा क्रेश में जाने लगता है। वहां संभव है कि एकाधिक भाषाओं के संपर्क आ जाए और फिर आरंभिक पाठशाला में जाने लगे जहां कदाचित्‍ अंग्रेजी से उसका वास्ता सर्वाधिक पड़े। आजकल अपने देश में अंग्रेजी पर ही पूरा जोर है, अतः बच्चे के साथ मां-बाप भी अंग्रेजी में अधिक बोलने लगते हैं ताकि उसकी अंग्रेजी मजबूत हो सके। इस प्रकार की पेचीदी परिस्थिति में उसके मातृभाषा का स्वरूप भला क्या होगा?

निजी अनुभव

मैं अपनी बात को आगे प्रस्तुत कुछ दृष्टांतो के माध्यम से स्पष्ट करता हूं। स्पष्ट कर दूं कि ये दृष्टांत काल्पनिक नहीं हैं अपितु मेरे अनुभव में आई बातें हैं।

(१)     मेरा जन्म उत्तराखंड (तब उत्तर प्रदेश) के एक गांव में तब हुआ था जब देश स्वतंत्र होने जा रहा था (१९४७)। तब हम बच्चों (और कई वयस्कों की भी) दुनिया गांव एवं उसके पास के क्षेत्र तक सीमित थी। टेलीफोन, बिजली, रेलगाड़ी आदि शब्द सुने तो जरूर थे पर ये होते क्या हैं इसका कोई अनुभव नहीं था। गांव कुमाऊं क्षेत्र में था और वहां कुमाउंनी बोली जाती थी, जिसे आप हिन्दी की बोली या उपभाषा कह सकते हैं। आम हिन्दीभाषी को कुमाउंनी ठीक से समझ में आ जाती होगी इसमें मुझे संदेह है। एक बानगी पेश है: “मैंलि आज रात्तै क्योल खाछ।” जिसका हिन्दी रूपान्तर है: “मैंने आज प्रातः केला खाया (था)।” (रात्तै = रात के अंत का समय)। कुमाउंनी में सहायक क्रिया “होना” के लिए “हुंण” है जिसके रूप अक्सर छ से आरंभ होते हैं। जब हम बच्चे ५-६ वर्ष की उम्र में पाठशाला जाने लगे तो पढ़ाई के माध्यम एवं पुस्तकें हिन्दी में थीं। आरंभ में सही हिन्दी बोलने में थोड़ा दिक्कत तो हुई होगी, लेकिन किताबें पढ़ने/समझने में कोई परेशानी नहीं हुई। परंतु घर और बाहर कुमाउंनी ही में हम बोलते थे। तब क्या थी हमारी मातृभाषा? उपभाषा के तौर पर कुमाउंनी और भाषा के तौर पर हिन्दी। निश्चित ही हमारा अंग्रेजी एवं अन्य किसी भाषा से कोई संपर्क नहीं था।  अंग्रेजी से संपर्क तो कक्षा ६ से आरंभ हुआ और उसका प्रभाव हमारी हिन्दी/कुमाउंनी पर नहीं के बराबर था।

(२)     मेरे पड़ोस में पांच भाइयों के परिवार रहते हैं। ये लोग उस जमीन के मालिकों में से एक हुआ करते थे जिसमें हमारी कालोनी बसी है। ये और इनकी संतानें फल-सब्जियां बेचने का धंधा करती हैं या उनमें से कुछएक ऑटो-ट्राली आदि चलाते हैं। माली हालत निम्नवर्ग के अनुरूप है। तीस साल पहले जब मैंने इस कालोनी में मकान बनवाया तब इनके पिता जीवित थे। वे निरक्षर थे और शायद ये सभी भाई भी निरक्षर हैं। तीसरी पीढ़ी के युवा भी अधिक पढ़े-लिखे नहीं हैं। शायद कुछ ने हाई-स्कूल या इंटर तक की पढ़ाई की है। शैक्षिक स्तर सभी का अतिसामन्य प्रतीत होता है। इस पीढ़ी की कुछ संतानें (चौथी पीढ़ी) किशोरावस्था में चल रही हैं और सरकारी विद्यालयों को छोड़कर निजी अंग्रेजी-माध्यम स्कूलों में पढ़ती हैं। ये बच्चे “अंकल, गुड मॉर्निंग” की भाषा बोलने लगे हैं और “हैप्पी बर्थडे सेलिब्रेट” करते हैं। मैंने पाया है कि उनकी शब्द संपदा में अब अंग्रेजी घुस चुकी है। फिर भी यही कहूंगा कि हिन्दी (या कहिए भोजपुरी) अभी इनकी मातृभाषा है, क्योंकि घरों में अंग्रेजी बोल सकने वाले सदस्य हैं नहीं। किंतु उसके बाद की पीढ़ी अवश्य ही यथासंभव अंग्रेजी पर जोर डालेगी और मातृभाषा प्रभावित होने लगेगी।

(३)     अब बात करता हूं बड़े शहर में रह रहे कुमाउंनी मूल के ऐसे परिवार की जहां मुझे ६०-७० वर्षीय जन मिल गए और जिनसे मैं कुमाउंनी में बात कर सका। चूंकि इन जनों की अगली पीढ़ी शहरो में ही पैदा हुई, पली-बढ़ी और पढ़ी-लिखी, अतः वे कुमाउंनी समझ तो सकते हैं परंतु बोल नहीं सकते। उस परिवार में मुझे चारएक साल का ऐसा बच्चा दिखा जो हिन्दी नहीं बोल सकता था भले ही समझ लेता था। उससे सभी अंग्रेजी में ही बात कर रहे थे। मुझे लगा कि उसकी हिन्दी के प्रति कोई भी व्यक्ति चिंतित नहीं था। फलतः एक ऐसी पीढ़ी तैयार हो रही थी जिसकी मातृभाषा अंग्रेजी बन चुकी थी, माता-पिता की मातृभाषा हिन्दी होने के बावजूद। रही-सही कमी अंग्रेजी-माध्यम का स्कूल पूरा कर रहा था। सवाल है कि किसी बच्चे की मातृभाषा मां-बाप की भाषा ही होगी ऐसा मानना तर्कसंगत होगा क्या?

(४)     मैं जब मूलतः हिन्दीभाषी मध्यवर्गीय शहरी परिवार में जाता हूं, मैंने पाया है कि वहां हिन्दी बोली तो जाती है, परंतु तिरस्कृत भी बनी रहती है। हिन्दी उन परिवारों के लिए मजबूरी कही जा सकती है, क्योंकि निचले सामाजिक तबके के लोगों और घर-परिवार के सद्स्यों तथा मित्र-परिचितों के साथ हिन्दी में ही संपर्क साधना पड़ता है। अन्यथा उनके यहां हिन्दी की पत्र-पत्रिकाएं-पुस्तकें बमुश्किल देखने को मिलती है। उस माहौल में बच्चे की अक्षर-ज्ञान की आरंभिक पुस्तकें भी अंग्रेजी में ही मिलती हैं जो उसे “ए फ़ॉर ऐपल, बी फ़ॉर बनाना, सी फ़ॉर कैट, …” सिखाती हैं। ऐसी स्थिति में बच्चे की मातृभाषा क्या हिन्दी रह सकती है? क्या वह एक खिचड़ी भाषा नहीं होगी जिसमें अंग्रेजी अधिक, हिन्दी कम हो?

गायब हो रहे हैं हिन्दी शब्द

एक बार मैं एक दुकान पर खड़ा था। १०-११ साल के एक बच्चे ने कोई सामान खरीदा और उसका दाम पूछा। दुकानदार ने जब “अड़तीस रुपये” कहा तो वह समझ नहीं सका। तब उसे “थर्टीएट” बताया गया। टीवी चैनलों पर शायद ही कोई साफ-सुथरी हिन्दी में समाचार देता होगा। “… में एक बिल्डिंग कोलैप्स हो गई है। मलवे से दो लोगों की डेड बॉडी निकाली गईं हैं। चार लोग इन्ज्यर्ड बताए गए हैं। …” समाचार का ऐसा ही पाठ सुनने को मिलता है। विज्ञापनों की भाषा कुछ यों होती है: “… बनाए आपकी स्किन फेअर एंड मुलायम …।” सुपरिचित बाबा रामदेव स्वदेशी के हिमायती  होने की दावा करते हैं। उनके खुद के विज्ञापनो में आप पाएंगे कि वे मधु/शह्द के बदले हनी, नारियल तेल के बदले कोकोनट ऑयल जैसे शब्द इस्तेमाल करते हैं। उनके उत्पादों पर लिखित जानकारी भी शायद ही कभी मुख्यतया हिन्दी में देखने को मिलती है।

यह ठीक है कि हर भाषा की शब्द-संपदा में अन्य भाषाओं के कुछएक शब्द भी अक्सर शामिल हो जाते हैं। लेकिन हिन्दी में तो वे शब्द भी अंग्रेजी शब्दों से विस्थापित होते जा रहे हैं जो सदा से ही आम लोगों के मुख में रहते थे। क्या यह सच नहीं है कि अब हिन्दी की गिनतियां, साप्ताहिक दिनों के नाम, फल-फूलों, पशु-पक्षिओं, शारीरिक अंगों, आम बिमारियों, आदि के नाम आम बोलचाल में कम सुनने को मिल रहे हैं, विशेषतः शहरी नवयुवाओं, किशोरों एवं बच्चों के मुख से? ऐसी दशा में किसी बच्चे की विकसित हो रही भाषा क्या असल हिन्दी हो सकती है, भले ही उसके मां-बाप मूलतः हिन्दीभाषी हों? वह जो सीखेगा उसे मैं हिन्दी नहीं मान सकता। भाषा के मूल शब्द गायब होते जाएं और व्याकरणीय ढांचा भर रह जाए तो भी आप उसे हिन्दी कहें तो कहते रहें। यह सार्वलौकिक (कॉज़्मोपॉलिटन) महानगरों की विशेष समस्या है।

अंत में इस तथ्य की ओर पाठकों का ध्यान फिर से खींचता हूं कि आज के युग में जन्म के बाद से ही बच्चे को भाषा की दृष्टि से खिचड़ी परिवेश मिलने लगा है, विशेषतः महानगरों में। जब तक उसके मस्तिष्क में भाषा का स्वरूप स्थायित्व पाए तब तक उस पर एकाधिक कारकों का प्रभाव पड़ने लगता है। चूंकि महानगरों में अब अंग्रेजी माध्यम विद्यालय ही लोगों की प्राथमिकता बन चुके हैं, अतः वहां का महौल घर से अलग रहता है। अड़ोस-पड़ोस का परिवेश कुछ रहता है और तथा टीवी चैनल कुछ और ही परोसते हैं। ये सभी बच्चे की भाषा को प्रभावित करते हैं। (मैंने समाचार पढ़ा था कि कर्नाटक में सरकारी विद्यालयों का माध्यम अब अंग्रेजी होगी। उत्तर प्रदेश के कुछ सरकारी विद्यालयों में अंग्रेजी माध्यम रहेगा। कुछ राज्यों में प्राथमिक दर्जे से अंग्रेजी पढ़ाई जा रही है।) ऐसे में संभव है कि कोई खिचड़ी भाषा मातृभाषा के तौर पर विकसित हो। – योगेन्द्र जोशी

प्रायः सब सभी भारतीयों को यह भ्रम है कि दुनिया में अंग्रेजी सर्वत्र चलती है। ऐसा वस्तुतः है नहीं। चीन, जापान, कोरिया एवं लैटिन अमेरिकी (दक्षिण अमेरिकी) आदि देशों में अंग्रेजी के प्रति लोगों का उतना मोह देखने को नहीं मिलता जितना अपने देश भारत में। प्रमुखतया अंग्रेजी-भाषी कनाडा के फ़्रांसीसी-भाषी क्यूबेक प्रांत में स्थिति भारत की जैसी नहीं है। दुर्भाग्य है कि दुराग्रह से ग्रस्त व्यक्ति वास्तविकता को भी नकार देता है। अपने लगभग सात सप्ताह के कनाडा प्रवास के दौरान अंग्रेजी एवं फ़्रांसीसी भाषा को लेकर जो मैंने अनुभव किया उसे पाठकों के साथ इस लेखमाला के माध्यम से साझा कर रहा हूं।

 

पहले कुछ तस्वीरें:

कनाडा प्रवास

विगत ग्रीष्मकाल के दौरान लगभग 7 सप्ताह के अपने कनाडा प्रवास के दौरान अंग्रेजी एवं फ़्रांसीसी भाषाओं को लेकर मुझे जो अनुभव हुआ उस पर आधारित एक परिचयात्मक लेख मैंने पहली जनवरी की प्रविष्टि (पोस्ट) में प्रस्तुत किया था। उसके बाद क्यूबेक प्रांत के शहर मॉंट्रियाल में प्राप्त अनुभवों पर आधारित सचित्र लेख २४ फ़रवरी को पोस्ट की थी। 

तीन लेखों की अपनी लेखमाला में मैंने यह बताने का प्रयास किया है कि अंग्रेजी की वैश्विक व्यापकता को लेकर भारतीयों में जो भ्रम व्याप्त है वह वास्तविकता से परे है। अब इस तीसरे लेख में क्यूबेक प्रान्त के उसी नाम से विख्यात दूसरे बड़े शहर क्यूबेक में फ़्रांसीसी भाषा को लेकर मेरे देखने में जो आया उसका संक्षिप्त विवरण तस्वीरों के माध्यम से प्रस्तुत किया जा रहा है।

आगे बढ़ने से पहले दूसरे लेख की कुछ बातों का पुनरुल्लेख कर रहा हूं:

कनाडा की कुल आबादी (करीब 3.6 करोड़) का लगभग 25% फ़्रेंचभाषी यानी फ़्रांसीसीभाषी है। प्रायः सभी फ़्रांसीसी-भाषी राजकाज की आधिकारिक भाषा फ़ेंच वाले क्यूबेक प्रांत में रहते हैं – लगभग 82 लाख अकेले क्यूबेक (Quebec) प्रांत में और शेष करीब 3 लाख अति छोटे प्रांतों (न्यू ब्रुंसविक New Brunswick, मनिटोबा Manitoba, नोवा स्कोटिया Nova Scotia में, और छिटपुट तौर पर अन्यत्र रहते हैं। शेष कनाडा में अंग्रेजी प्रचलन में है। राष्ट्र के स्तर पर कनाडा की राजकाज की आधिकारिक भाषाएं अंग्रेजी एवं फ़्रांसीसी, दोनों, हैं।

क्यूबेक प्रांत का सबसे बड़ा शहर मॉंट्रियाल (Montreal, आबादी करीब 38 लाख) है। उपर्युक्त दूसरा लेख उसी शहर के अनुभव पर आधारित था, जहां मैं अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ एक पर्यटक के तौर पर गया था। क्यूबेक दूसरा बड़ा शहर है जहां हम पर्यटन के लिए गये थे। सन् 1608 में फ़्रांसीसियों के द्वारा बसाया गया यह शहर कनाडा के सबसे पुराने शहरों में से एक है। ध्यान दें कि यूरोप के लोगों (अंग्रेज एवं फ़्रांसीसी) ने कनाडा में 16वीं शताब्दी के 5वें दशक में बसना आरंभ किया था। इस समय शहर की आबादी करीब ८ लाख आंकी जाती है। यही शहर क्यूबेक प्रांत की राजधानी भी है। शहर पुराने किस्म का है इसलिए इसका अपना अलग ही आकर्षण है। यहां के आकर्षणों में महत्वपूर्ण है एक किला। मेरे मौजूदा लेख का विषय पर्यटक स्थलों का वर्णन करना नहीं है। मैं तो वहां के भाषाई अनुभव की बात करना चाहता हूं।

क्यूबेक प्रांत में फ़्रांसीसी मूल के लोग ही प्रमुखतया रहते हैं। वे आज भी अपनी भाषा फ़्रांसीसी पर गर्व करते हैं। वे हम भारतीयों की तरह नहीं हैं जो अपनी ही भाषाओं का तिरस्कार एवं विरोध करते हैं।

1. गांधी प्रतिमा

क्यूबेक शहर में फ़्रांसीसी भाषा की अंग्रेजी के सापेक्ष क्या स्थिति है इसे कुछ उदाहरणों के माध्यम से पाठकों के समक्ष रखता हूं। सबसे पहला उदाहरण मैं महात्मा गांधी की प्रतिमा का लेता हूं जो शहर के एक पुराने एवं भीतरी भाग की सड़क के किनारे एक पार्क पर लगी है। महात्मा गांधी पिछली शताब्दी के अंतरराष्ट्रीय स्तर के नेताओं में अनन्य गिने जाते हैं और प्रायः सभी देशों में अनेक लोग उनके नाम तथा अहिंसा-उपदेश से परिचित हैं। विश्व के अनेक शहरों में उनकी प्रतिमाएं देखने को मिल जाती हैं। क्यूबेक में लगी उनकी प्रतिमा की तस्वीर यहां प्रस्तुत है:

ध्यान दें कि प्रतिमा पर गांधी जी के बारे में उत्कीर्ण जानकारी केवल फ़्रांसीसी मे है। कनाडा की आधिकारिक भाषाएं भले ही अंग्रेजी एवं फ़्रांसीसी, दोनों, हैं परंतु क्यूबेक प्रांत में अंग्रेजी को खास तवज्जू नहीं मिलती है। इसलिए गांधी-प्रतिमा पर अंग्रेजी में कुछ भी अंकित नहीं है। क्या भारत में ऐसा हो सकता है?

2. खरीद-फ़रोख्त की रसीद

मॉंट्रियाल एवं क्यूबेक में हमने खाने-पीने की वस्तुओं आदि की जो खरीदारी की उनकी रसीदें भी हमें फ़्रांसीसी में ही मिलीं, न कि अंग्रेजी में। देखें पांच रसीदों की छायाप्रतियों की तस्वीर:

अंग्रेजी सर्वत्र चलती है की बात करने वालों को अपने कथन पर किंचित विचार करना चाहिए। अवश्य ही दुकानों आदि पर आम बोलचाल के लिए हमने अंग्रेजी का ही प्रयोग किया (फ़्रांसीसी तो आती नहीं) और हमारा काम चल गया। किंतु हमने महसूस किया कि संबंधित दुकानदारों की अंग्रेजी सामान्य एवं कामचलाऊ ही रहती है। पर्यटकों के साथ संवाद-संपर्क के लिए उन्हें अंग्रेजी की जरूरत होती है, अन्यथा उनका कार्य फ़्रांसीसी से बखूबी चलता है।

यहां यह भी बता दूं कि क्यूबेक प्रांत में और उसके आसपास के शहरों, यथा ओटवा और टोरंटो (टुरानो), में भी उपभोक्ता सामानों पर आवश्यक जानकारी/निर्देश फ़्रांसीसी एवं अंग्रेजी, दोनों, में उपलब्ध रहती है। यह जानना दिलचस्प है कि भारत से आयातित सामान पर भी फ़्रांसीसी में अंकित जानकारी देखने को मिल जाती है। भारतीय उद्यमी वही जानकारी अपने देशवासियों को उनकी भाषा में नहीं देते। अपनी भाषाओं के प्रति हमारा रवैया कैसा है यह हम जानते हैं।

3. “जानें क्यूबेक” (Découvrir Québec)

क्यूबेक शहर में घूमते-फिरते मेरी नजर पड़ी एक सूचना-पट पर जो विशुद्ध फ़्रांसीसी में है। मैं पढ़ तो सकता नहीं किंतु यह समझ में आ गया कि उस पर अंग्रेजी का “डिस्कवर क्यूबेक” फ़्रांसीसी में (Découvrir Québec) लिखा गया है। उस सूचना-पट पर शहर के प्रमुख दर्शनीय स्थलों का विवरण उल्लिखित था। पर्यटक उसे समझ पायें या नहीं इसकी वहां फ़्रांसीसी मूल के लोगों को परवाह नहीं। वे अपनी भाषा को सम्मान देने में विश्वास करते हैं।

4. पुरातत्व स्थल

क्यूबेक शहर की स्थापना सैम्युअल द शाम्प्लाँ (Samuel de Champlain) नामक फ़्रांसीसी नागरिक द्वारा 1608  की गई थी। शाम्प्लाँ अपने आप में बहुत कुछ था – सिपाही, मानचित्रकार, खोजकर्ता, भूगोलविद्‍, एवं राजनयिक आदि। उस समय फ़्रांसीसियों ने क्यूबेक प्रांत के उस क्षेत्र को “न्यू फ़्रांस” नाम से अपना उपनिवेश बनाया था। बाद में अंग्रेजों ने 1760 के युद्ध में उसे फ़्रांसीसियों से अपने आधिपत्य ले लिया था। आज भी शाम्प्लाँ को नगर संस्थापक के नाम पर याद किया जाता है। वहां पर उसके निवास-स्थल को स्मारक के रूप में जाना जाता है। उसी की जानकारी मुझे एक गली (सड़क) पर सूचना पट पर देखने को मिली फ़्रांसीसी भाषा में न कि अंग्रजी में।

 5. राष्ट्रसंघ कार्यालय

और आगे बढ़ने पर क्यूबेक में राष्ट्रसंघ (यू.एन.ओ.) की संस्था “यूनेस्को” (UNESCO) के कार्यालय का नामपट नजर आया। उसके बाबत कोई उल्लेखनीय बात नहीं। मेरे लिए बस यह देखना ही काफी था कि नामपट पर फ़्रांसीसी भाषा में लिखा है “PARC DE L’UNESCO” अर्थात् UNESCO Centre; यहां भी अंग्रेजी नहीं। (स्मरण रहे कि यूनेस्को की छः आधिकारिक भाषाएं हैं: अंग्रेजी, अरबी, चीनी, फ़्रांसीसी, रूसी एवं स्पेनी|)

 6. उत्सव स्थल

जब हम क्यूबेक में भ्रमण कर रहे थे वहां एक स्थल पर विज्ञान उत्सव (Science Festival)  के आयोजन की तैयारी चल रही थी । उसके लिए मंच और दर्शकों के बैठने के लिए स्थान तैयार किए जा रहे थे। आयोजन की तिथियां दो-तीन दिन बाद की थीं और हमें दूसरे ही दिन लौटना था। अतः हम आयोजन नहीं देख सकते थे। मेरी रुचि आयोजन में थी भी नहीं; मेरी दिलचस्पी तो उस स्थल पर उत्सव-संबंधी जो जानकारी लिखी गई थी उसकी भाषा में थी। उस स्थान की जो तस्वीर मैंने खींची वह प्रस्तुत है:

मंच के शीर्ष पर बांई ओर लिखा था “Scéne Fibe” और दाईं ओर “FÉSTIVAL D’ÉTÉ DE QUÉBEC”। यह अनुमान लगाया जा सकता है कि आयोजन की कार्यवाही फ़्रांसीसी भाषा में संपन्न हुई होगी न कि अंग्रेजी में।

7. कार पार्किंग स्थल

क्यूबेक में राह चलते मेरी नजर पड़ी एक पार्किंग स्थल पर। दरअसल वह चारों ओर से “प्लास्टिक सीट” द्वारा घिरा हुआ अस्थाई पार्किंग स्थल था, जैसा कि उस पर फ़्रांसीसी भाषा में लिखित “stationnement temporaire” से स्पष्ट था। अपेक्षया छोटे अक्षरों मे बहुत कुछ आवश्यक जानकारी भी थी जिसे समझने की मुझे न तो आवश्यकता थी और न ही मैं समझ सकता था।

8. बस प्रदर्शन पट

मैं यहां दुबारा यह कहना चाहता हूं कि क्यूबेक में सभी स्थानीय कार्य फ़्रांसीसी भाषा में ही संपन्न होते हैं। हमने शहर के एक स्थान से दूसरे स्थान तक नगरीय बस-सेवा के माध्यम से आवागमन किया। यात्रियों के लिए बस-मार्ग का नाम, अगले बस-स्टॉप का नाम, आदि की जानकारी फ़्रांसीसी में बस के भीतर लगे एलेक्ट्रॉनिक सूचना-पट पर प्रदर्शित होते हुए मैंने पाया।

9. सैंट लॉरेंस नदी फ़ेरी सेवा

क्यूबेक शहर सैंट लॉरेंस (St. Lawrence) नदी के उत्तर-पश्चिमी किनारे पर बसा है। यह नदी कनाडा की तीसरी सबसे बड़ी नदी है (लंबाई लगभग 3,000 कि.मी.) और इस शहर में इसका पाट करीब 3 कि.मी. है। नदी पर दूर-दूर पर पुल बने हैं किंतु नदी किनारे बने क्यूबेक-किले के सामने से नदी के दूसरे किनारे की बस्ती पर पहुंचने के लिए फ़ेरी (वृहन्नौका) की सेवा उपलब्ध है। इस सेवा का उपयोग पर्यटकों को नदी से शहर का नजारा पाने के लिए भी किया जाता है। हमने भी फ़ेरी-सेवा का लाभ उठाया। फ़ेरी के प्रवेश-द्वार पर प्रदर्शित जानकारी की तस्वीर प्रस्तुत है यह बताने के लिए कि यहां भी अंग्रेजी में सूचना प्रदर्शित नहीं थी।

अंत में

इन चित्रों को प्रस्तुत करने का मेरा मकसद सीधा-सा है कि अंग्रेजी सर्वत्र चलती है हम भारतीयों की यह धारणा तथ्यों पर आधारित नहीं है। मुझे यह जानकारी है कि चीन, जापान, कोरिया के बड़े बहुतारांकित (मल्टीस्टार्ड) होटलों-रेस्तराओं को छोड़ दें तो छोटी-मोटी जगहों पर पर्यटकों के सामने विचार-संप्रेषण की समस्या खड़ी हो जाती है। उन जगहों का मुझे व्यक्तिगत अनुभव नहीं है। किंतु कोई 30-32 साल पहले पेरिस भ्रमण के समय ऐसी दिक्कत मुझे भी हुई। अपने अन्य ब्लॉग में मैंने तब के अपने अनुभव को कहानी के रूप में लिखा है। बाद में पता चला कि वहां अंग्रेजी जानने वाले कम नहीं, परंतु फ़्रांसीसी छोड़ अंग्रेजी में वार्तालाप करना उनको पसद नहीं। फ़्रांसीसियों का अंग्रेजी विरोध तो ऐतिहासिक है। हम भारतीयों का रवैया ठीक उल्टा है। अपने अंग्रेजी-लगाव के औचित्य के लिए हम किसी भी तर्क-कुतर्क को पेश करने में नहीं हिचकते। – योगेन्द्र जोशी

प्रायः सब सभी भारतीयों को यह भ्रम है कि दुनिया में अंग्रेजी सर्वत्र चलती है। ऐसा वस्तुतः है नहीं। चीन, जापान, कोरिया एवं लैटिन अमेरिकी (दक्षिण अमेरिकी) आदि देशों में अंग्रेजी के प्रति लोगों का उतना मोह देखने को नहीं मिलता जितना अपने देश भारत में। प्रमुखतया अंग्रेजी-भाषी कनाडा के फ़्रांसीसी-भाषी क्यूबेक प्रांत में स्थिति भारत की जैसी नहीं है। दुर्भाग्य है कि दुराग्रह से ग्रस्त व्यक्ति वास्तविकता को भी नकार देता है। अपने लगभग सात सप्ताह के कनाडा प्रवास के दौरान अंग्रेजी एवं फ़्रांसीसी भाषा को लेकर जो मैंने अनुभव किया उसे पाठकों के साथ इस लेखमाला के माध्यम से साझा कर रहा हूं।

 

विगत ग्रीष्मकाल के दौरान लगभग 7 सप्ताह के अपने कनाडा प्रवास के दौरान मुझे अंग्रेजी एवं फ़्रांसीसी भाषाओं को लेकर जो अनुभव हुआ उस पर आधारित एक परिचयात्मक लेख मैंने पहली जनवरी की प्रविष्टि (पोस्ट) में प्रस्तुत किया था। तीन लेखों की अपनी लेखमाला में मैंने यह बताने का प्रयास किया है कि अंगरेजी की वैश्विक व्यापकता को लेकर भारतीयों में जो भ्रांति व्याप्त है वह वास्तविक जानकारी पर आधारित नहीं है। इस दूसरे लेख में मॉंट्रियाल शहर में फ़्रांसीसी भाषा को लेकर मेरे देखने में जो कुछ आया उसका संक्षिप्त विवरण कुछ तस्वीरों के माध्यम से मैं यहां प्रस्तुत कर रहा हूं।

कनाडा की कुल आबादी (करीब 3.6 करोड़) का लगभग 25% फ़्रेंच यानी फ़्रांसीसी भाषाभाषी है। प्रायः सभी फ़्रांसीसी-भाषी राजकाज की आधिकारिक भाषा फ़ेंच वाले क्यूबेक प्रांत में रहते हैं – लगभग 82 लाख अकेले क्यूबेक (Quebec) प्रांत में और शेष करीब 3 लाख अति छोटे प्रांतों (न्यू ब्रुंसविक New Brunswick, मनिटोबा Manitoba, नोवा स्कोटिया Nova Scotia में, और छिटपुट तौर पर अन्यत्र रहते हैं। शेष कनाडा में अंग्रेजी प्रचलन में है। राष्ट्र के स्तर पर कनाडा की राजकाज की आधिकारिक भाषाएं अंग्रेजी एवं फ़्रांसीसी, दोनों, हैं।

क्यूबेक प्रांत का सबसे बड़ा शहर मॉंट्रियाल (Montreal, आबादी करीब 38 लाख) है। यह ऑंटारियो प्रांत के टोरंटो (Toronto, आबादी करीब 56 लाख) शहर के बाद कनाडा का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। एक पर्यटक के तौर पर मैं अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ मॉंट्रियाल गया। पर्यटन की दृष्टि से वहां बहुत कुछ दर्शनीय उपलब्ध है। उस सब का ब्योरा प्रस्तुत करना मेरा मकसद नहीं है। पर्यटन के दौरान दर्शनीय स्थानों पर घुमते-फिरते फ़्रांसीसी भाषा को लेकर वहां जो कुछ मुझे देखने को मिला उस को मैंने अपने स्मृति-पटल एवं कैमरा में संचित करने का प्रयास किया। हर बात चित्रों में अंकित नहीं की जा सकती थी, फिर भी बहुत कुछ ऐसा अवश्य था जिसके माध्यम से पाठकों तक यह जानकारी पहुंचाई जा सकती है कि प्रमुखतया अंग्रेजी-भाषी देश होते हुए भी कनाडा के उस क्षेत्र में फ़्रांसीसी का ही बोलबाला है।

खरीद-फ़रोख्त की रसीद

1-quebec-montral-receipts

मॉंट्रियाल में हमने एक स्थान पर “मेट्रो” नामक “फ़ूडमार्ट” से कुछ फल आदि भोज्य सामग्री खरीदी थीं। अन्य स्थल पर “सबवे” नाम के रेस्तरां में भोजन भी किया था। अन्यत्र पॉपकॉर्न का आस्वादन भी किया था। इन स्थानों पर मिले खरीद-फरोख्त की रसीदों की तस्वीर बानगी के तौर पर मैं प्रस्तुत कर रहा हूं। (चित्र में क्यूबेक की दो रसीदों की तस्वीरें भी शामिल हैं।) ध्यान दें कि ये रसीदें फ़्रेंच भाषा में हैं। इनमें क्या लिखा है यह मैं नहीं बता सकता, क्योंकि कहां क्या खरीदा होगा वह ठीक-ठीक अब याद नहीं है। इन रसीदों का उल्लेख यह बताने के लिए मैं कर रहा हूं कि हमारे देश की भांति क्यूबेक प्रांत में रसीदें अंग्रेजी में नहीं मिलती हैं। राज्य की भाषा फ़्रांसीसी होने का मतलब है लेनदेन की लिखापढ़ी भी फ़्रांसीसी में किया जाना। अपने देश में तो सर्वत्र अंग्रेजी में ही रसीदों का प्रचलन है!

मेट्रो स्टेशन

2-montreal-metro-station-and-ticket

हम लोगों ने शहर के भीतर एक स्थान से दूसरे तक जाने के लिए “मेट्रो ट्रेन” की सेवा का भी लाभ लिया। मॉन्ट्रियाल के भूमिगत एक स्टेशन पर गाड़ी की प्रतीक्षा के समय वहां पर दीवाल पर प्रदर्शित विज्ञापन अथवा जानकारी पर मेरी दृष्टि पड़ी तो मैंने उसकी तस्वीर कैमरे में कैद कर ली। यहां प्रस्तुत चित्र उसी छायाचित्र की प्रति है। इस प्रकार के प्रदर्शन-पट (डिस्प्ले-बोर्ड) शहर के अन्य स्थलों पर भी देखने मिल जाते हैं। और ये सभी फ़्रांसीसी भाषा में ही रहते हैं; शायद ही कहीं अंग्रेजी में मिलते हों। प्रस्तुत चित्र के बांये ऊपरी कोने पर उस टिकट (या टोकन जैसा कि उसे वहां कहा जाता है) की प्रति को भी मैंने प्रदर्शित किया है जिसको साथ लेकर मैंने आवागमन किया। यह टोकन भी पूरी तरह फ़्रांसीसी में ही है।

मॉन्ट्रियाल ओलम्पिक स्टेडियम टावर

3-montreal-tower-guiness-record

आज से चालीस वर्ष पूर्व सन्‍ 1976 में मॉन्ट्रियाल में ओलम्पिक खेल आयोजित हुए थे। उस समय वहां क्रीड़ांगनों (स्टेडियमों) और अन्य भवनों का निर्माण किया गया था। उनमें से प्रमुख था “मॉंट्रियाल स्टेडियम टावर” जो स्वयं में 165 मीटर ऊंचा एक तिरछा स्तंभ है जिसके शीर्ष पर शहर का नजारा देखने के लिए चारों ओर चलने-फिरने का स्थान प्राप्य है। साथ में एक रेस्तरां एवं स्मारक-वस्तुओं/उपहारों की दुकान भी है। वहां पहुंचने के लिए लिफ़्ट की व्यवस्था है। हम लोग भी टावर के शीर्ष पर गये थे। वह टावर उस काल की अनूठी भवन-संरचना के लिए विख्यात हुआ था। इस संदर्भ में वहां बड़े-से बोर्ड पर “गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रेकॉर्ड्स” द्वारा प्रदत्त प्रमाणपत्र की प्रदर्शित छायाप्रति मेरी नजर में आई जिसे में यहां प्रस्तुत किया है।

वहां प्रदर्शित बोर्ड पर उल्लिखित जानकारी पूर्ण्तया फ़्रेंच भाषा में है। बोर्ड के निचले भाग में दायीं ओर गिनीस-रेकॉर्ड के प्रमाणपत्र की प्रति भी अंकित है जो अंग्रेजी में है, कदाचित इसलिए कि प्रमाणपत्र अंग्रेजी में ही दिए जाते होंगे। चित्र के निचले भाग में बांयी तरफ़ “इनसेट” में एक रंगीन तस्वीर भी शामिल। यह उसी टावर की तस्वीर है। ध्यान दें कि इस टावर के आधार/तले से लगभग सटी-हुई एक अंडाकार भवन-संरचना भी देखने को मिल रही है। 1976 के ओलंपिक खेलों के समय इसके भीतर साइकिल दौड़ के लिए “साइकिल-ट्रैक” (वेलोड्रोम velodrome) बनाया गया था। 1992 में इसे जैविक संग्रहालय के तौर पर इस्तेमाल में ले लिया गया। इस गुंबदाकार भवन के बाहर नाम-पट पर लिखित है “Biodome de Montreal” फ़्रांसीसी में।

4-montreal-biodome

वनस्पति उद्यान, मॉंट्रियाल

मेरी समझ में मॉंट्रियाल का सबसे महत्वपूर्ण पर्यटक एवं दर्शनीय स्थान है वहां का वनस्पति उद्यान (Botanical Garden of Montreal, फ़्रांसीसी में Jardin Botanique de Montreal)। उद्यान के प्रवेश-द्वार के बाहर तीन सूचना-पटों पर फ़्रेंच भाषा में लिखित संकेत देखने को मिलते हैं। उनके आंशिक तस्वीरों को यहां एक साथ प्रस्तुत किया गया है। सूचना-पटों पर क्या लिखा है इसका अनुमान लगाया जा सकता था, किंतु अंग्रेजी में न होने के कारण वे हमारे लिए स्पष्ट नहीं थे।

5-montrreal-garden-display-boards-mixed

7-montreal-jardin-garden-university-name

प्रवेश-द्वार पर एक सूचना-पट भी प्रदर्शित है जिससे पता चलता है कि इस उद्यान की व्यवस्था मॉंट्रियाल विश्वविद्यालय (Universite de Mntreal) के प्रशासनिक/शैक्षिक नियंत्रण में है। वस्तुतः यह विश्वविद्यालय के “वनस्पति-विज्ञान शोध संस्थान” (Institute de researche en biologie vegetale) का हिस्सा है। ध्यान दें कि फ़्रांसीसी और अंग्रेजी के कई शब्द मिलते-जुलते हैं, इसलिए प्रदर्शित सूचनाएं थोड़ा-बहुत समझ में आ जाती हैं। किंतु विश्वविद्यालय का विभाग होने के बावजूद विविध जानकारियां अंग्रेजी में लिखित नहीं देखने को मिलीं यह मेरे विचार में ध्यानाकर्षक तो है ही हम भारतीयों के लिए विचारणीय भी है। ऐसा लगता है कि विश्वविद्यालय का शिक्षण-माध्यम प्रमुखतया फ़्रांसीसी ही है होगी, भले ही साथ-साथ अंग्रेजी का भी व्यवहार होता हो।

6-montreal-arboretum-botanical-garden

इस उद्यान का नक्शा भी प्रवेश-द्वार पर देखने को मिलता है लेकिन वह फ़्रांसीसी न जानने वाले के लिए समझ से परे ही कहा जायेगा।

उद्यान का अंतरंग

8-montreal-garden-inside-entry-sign

उद्यान के अंदर प्रवेश करने पर स्थान-स्थान पर प्रचलित संकेतों और फ़्रांसीसी में लिखित संदेशों के माध्यम से यह बताया गया है कि कहां क्या है और किस ओर प्रवेश-मार्ग और किस ओर निकास-मार्ग हैं।

9-montreal-friends-of-garden

उद्यान के भीतर प्रदर्शित सूचना-पटों में से एक की तस्वीर यहां उदाहरण-स्वरूप प्रस्तुत है। मेरे अनुमान में फ़्रांसेसी में लिखित सूचना शायद यह संदेश देती है कि उद्यान के टिकट से प्राप्त धन प्रकृति-संरक्षण में लगाया जाता है।

10-montreal-chinese-garden-restoration-work

एक अन्य सूचना-पट पर लिखित जानकारी से यह प्रतीत होता है कि उद्यान के एक अंग “चीनी उद्यान” (Le jardin de Chine) का इस समय (2015-17) restoration कार्य चल रहा। अतः उद्यान के इस हिस्से का हम दर्शन हम नहीं कर सके।

निष्कर्ष

इस आलेख में शामिल गिने-चुनी तस्वीरों के माध्यम से मैंने पाठकों के समक्ष यह तथ्य रखने का प्रयास किया है कि क्यूबेक में तमाम स्थानों पर केवल फ़्रांसीसी में लिखित जानकारी प्रदर्शित की हुई मिलती है। इसका अर्थ यह है कि अंग्रेजी के प्रति जैसा आकर्षण एवं उत्साह हम भारतीयों में देखने को मिलता है वैसा अन्य बहुत-से देशों में देखने को नहीं मिलता है। अंग्रेजी की गुलामी उन देशों की खासियत है जो अंग्रेजी शासन के अधीन रहे और जहां अंग्रेजी की जड़ें इतनी गहरी बैठ गयीं कि अंग्रेजों से मुक्ति के बाद भी अंग्रेजी से मुक्ति लोगों को नहीं मिली। और अब इस भाषाई गुलामी से मुक्ति के कोई आसार नजर नहीं आते हैं।

अगले आलेख में मेरा प्रयास क्यूबेक शहर में प्राप्त भाषा संबधी अनुभवों का उल्लेख करने का है। क्यूबेक अपने ही नाम वाले प्रांत का दूसरा बड़ा शहर और पर्यटक स्थल है। – योगेन्द्र जोशी

और कुछ तस्वीरें-

montreal-garden-bonsai

montreal-garden-cactii

montreal-garden-orchid

montreal-olympic-stadium-main

कनाडा प्रवास, Canada residence, कनाडा की भाषाएं, Languages in Canada, कनाडा में फ़्रांसीसी भाषा, French language in Canada, क्यूबेक में फ़्रेंच, French in Quebec

“आज ख्रिस्तीय नववर्ष, 2017, के आरंभ का पहला दिन है। आधुनिक काल में इसे एवं इसकी पूर्वसंध्या को विश्व में प्रायः सर्वत्र एक पर्व के तौर पर हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इस अवसर पर देश-विदेश के सभी नागरिकों को मेरी शुभाकांक्षाएं।”

अधिकांश भारतीयों को यह भ्रम है कि दुनिया में अंग्रेजी सर्वत्र चलती है। ऐसा वस्तुतः है नहीं। अपने लगभग सात सप्ताह के कनाडा प्रवास के दौरान अंग्रेजी एवं फ़्रांसीसी भाषा को लेकर जो मैंने अनुभव किया उसे पाठकों के साथ इस लेखमाला के माध्यम से साझा कर रहा हूं। उद्येश्य यह समझाना है कि कनाडा तक में अंग्रेजी उतनी नहीं चलती है जितनी लोग सोचते होंगे। दुर्भाग्य है कि दुराग्रह से ग्रस्त व्यक्ति वास्तविकता को भी नकार देता है।

पहले एक छायाचित्र, नियागरा जलप्रपात (कनाडा) का –

%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%be%e0%a4%97%e0%a4%b0%e0%a4%be-%e0%a4%9c%e0%a4%b2%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%aa%e0%a4%be%e0%a4%a4

कनाडा: संक्षिप्त परिचय

विगत ग्रीष्मकाल के दौरान मैं एवं मेरी पत्नी उत्तरी अमेरिकी द्वीप के देश कनाडा (Canada) के एक छोटे शहर लंडन (London) में अपने बेटे-बहू के पास लगभग 45-50 दिन के लिए प्रवास पर रहे। यहां यह बता दूं कि अंग्रेजों ने कनाडा के कई शहरों, राजमार्गों, नदियों आदि के नाम ब्रिटेन में प्रचलित नामों पर ही रखा। लंडन नाम इंग्लैंड के लंडन के नाम की नकल है। दिलचस्प यह भी है कि इस शहर में एक छोटी-सी नदी बहती है जिसका नाम भी इंग्लैंड के टेम्स (Thames) नदी के नाम पर ही है।

कनाडा प्रमुखतया अंग्रेजों का उपनिवेश हुआ करता था। क्यूबेक (Quebec) नाम से ज्ञात उसके पूर्वी समुद्रतटीय  प्रदेश और उसके आसपास का अपेक्षया छोटा इलाका कभी फ़्रांसीसी (फ़्रेंच) उपनिवेश हुआ करता था। किंतु उसे अंग्रेजी ने 1770 के दशक के युद्ध में फ़्रांसीसी सरकार से जीत लिया था।

कनाडा को जुलाई 1, 1967, में ब्रितानी राज से पूर्ण स्वायत्तता मिल गयी थी, लेकिन  संप्रभु राष्ट्र का दर्जा ब्रिटेन ने नहीं दिया। इस तारीख को कनाडावासी स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं। सन्  1982 में  कनाडा ऐक्ट (Canada Act) के पारित होने के बाद वह देश औपचारिक रूप से एक संप्रभु राष्ट्र बन गया।

नाडा की कुल आबादी करीब 3.6 करोड़ है और क्षेत्रफल करीब 91 लाख वर्ग किमी। उसकी तुलना में भारत की अनुमानित आबादी इस समय 130+ करोड़ है, यानी कनाडा से लगभग 36 गुना अधिक। किंतु भारत का क्षेत्रफल उसकी अपेक्षा केवल एक-तिहाई है। इस प्रकार कनाडा में प्रति व्यक्ति भूमि की उपलब्धता भारत की अपेक्षा करीब दस गुना – जी हां दस गुना – अधिक है। यह बात भी ज्ञातव्य है कि उस देश का अधिकांश भाग, विशेषतः पूर्व से पश्चिम तक का उत्तरी क्षेत्र, मानव जीवन-यापन के अनुकूल नहीं है। इसलिए कनाडा में लोग अमेरिका से लगे सीमावर्ती दक्षिणी क्षेत्र में ही वसे हैं।

कनाडा – आधिकारिक भाषाएं

कनाडा में राजकाज की दो आधिकारिक भाषाएं (Official Languages) हैं: अंग्रेजी (English) और फ़्रांसीसी (French)। फ़्रांसीसी बोलने वाले करीब 85 लाख है, अर्थात्‍ कुल जनसंख्या का लगभग एक-चौथाई। इनमें से 82 लाख के करीब अकेले क्यूबेक (Quebec) प्रांत में हैं; शेष करीब 3 लाख छोटे प्रांतों, न्यू ब्रुंसविक (New Brunswick) (2 लाख 34 हजार), मनिटोबा (Manitoba) (47.6 हजार), तथा नोवा स्कोटिया (Nova Scotia) (34.5 हजार) में रहते हैं। क्यूबेक प्रांत की अपनी आधिकारिक भाषा केवल फ़्रांसीसी है। उक्त अन्य की फ़्रांसीसी के साथ अंग्रेजी भी है।

कनाडा के अन्य प्रांतों की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी है। मैं जिस शहर लंडन (London, Canada) में रहा वह कनाडा के ऑंटारिओ (Ontario) प्रांत में है। कनाडा का सबसे बड़ा शहर टोरंटो (Toronto) है (आबादी करीब 60 लाख), जिसका  फ़्रांसीसी उच्चारण टोरानो है, इसी प्रांत में है। लंडन शहर इस शहर से 191 किमी की दूरी पर है।

ऑंटारिओ एवं क्यूबेक में फ़्रांसीसी भाषा

कनाडा की राजधानी ओटवा (Ottawa) है जो इसी नाम की नदी के दक्षिणी किनारे पर बसा है (आबादी करीब 13 लाख)। ऑंटारिओ एवं क्यूबेक प्रांतों की विभाजक सीमा रेखा भी यही नदी है। नदी के दूसरी ओर बसा है फ़्रेंचभाषी क्यूबेक प्रांत का गैटनो (gatineau) शहर। स्पष्ट है कि क्यूबेक की सन्निकटता के कारण राजधानी ओटवा में फ़्रेंचभाषा का प्रचलन काफी हद तक होना स्वाभाविक है। दरअसल प्रांत ऑंटारिओ के क्यूबेक से लगे होने के कारण उसके सीमावर्ती क्षेत्र में अंग्रेजी के साथ फ़्रेंचभाषा का भी कुछ हद तक प्रचलन देखने को मिलता है।

कनाडा का शहर टोरंटो या टोरानो भी क्यूबेक प्रांत के निकट है और उससे कुछ दूरी पर लंडन शहर है (आबादी 5 लाख) । वहां भी यदाकदा फ़्रेंच का प्रयोग देखने को मिल जाता है। एक बार मैं लंडन के ह्यूरॉन सड़क पर टहल रहा था तो मेरी नजर एक चैपल (Chapel) पर पड़ी जिसके परिसर में प्रदर्शित सूचनापट्ट पर केवल फ़्रांसीसी में लिखा है। देखें प्रस्तुत छायाचित्र (फोटो)।

catholic-church-info-london-ontario

मेरा अनुमान है कि चित्र में दिख रहा धार्मिक स्थल चैपल लंडन में रह रहे मुख्यतः फ़्रेंचभाषियों के लिए स्थापित है। इस पर अंकित जानकारी में अंग्रेजी कहीं नहीं है। लंडन शहर प्रमुखतया अंग्रेजीभाषी है, फिर भी वहां कुछ लोग फ़्रेंच को तवज्जो देते हैं।

चूंकि कनाडा की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी के साथ फ़्रांसीसी भी है अतः सरकारी कामकाज दोनों में होता है। प्रांतों की इनमें से एक अपनी भाषा है और उनका कार्य उसी भाषा में होता है। क्यूबेक में केवल फ़्रांसीसी चलती है यह मैं अगले दो लेखों में स्पष्ट करूंगा। यहां मैं इतना बता दूं कि वहां उपलब्ध उपभोक्ता सामग्री पर प्रायः दोनों भाषाओं में जानकारी छपी रहती है। भारत से आयातित कई उत्पादों पर मैंने अंग्रेजी के साथ फ़्रांसीसी में भी जानकारी छपी देखी है। ये ही उत्पाद जब भारत के भीतर उपभोग के लिए उपलब्ध होती हैं तो उन पर न क्षेत्रीय भाषा में और न ही राजभाषा हिन्दी में जानकारी दी जाती है।

भारत – अपनी भाषाएं तिरस्कृत

उक्त बात दर्शाती है कि इस देश में देशज भाषाओं को कोई अहमियत नहीं मिलती है। देश में अंग्रेजी जानने वाले 10-11% से अधिक नही होंगे, फिर भी उपभोक्ता को केवल अंग्रेजी में जानकारी देना इस देश के लोगों की हीनभावना या गुलाम मानसिकता अथवा सामाजिक असमानता बनाए रखने के विचार का द्योतक है ऐसा मेरा सोचना है।

मैं अगले दो आलेखों में क्यूबेक के मोंट्रियाल (आबादी 38-39 लाख के बीच) एवं क्यूबेक (आबादी 8 लाख) शहरों में फ़्रेंच के बोलबाले की चर्चा करूंगा।

Tags:

मुझे ई-मेल के माध्यम से एक सूचना मिली जिसमें इकनॉमिक टाइम्ज़ में छपे समाचार से संबंधित अधोलिखित लिंक (कड़ी?) प्राप्त हुआ। समाचार इस आलेख के शीर्षक से संबंधित है।

http://economictimes.indiatimes.com/news/politics-and-nation/pm-narendra-modi-asks-ministries-to-create-websites-in-regional-languages/articleshow/55364400.cms?prtpage=1

अंग्रेजी में छपे इस समाचार को पढ़ने के बाद मेरे मन में यह विचार उठा कि क्यों न इसका हिन्दी में यथासंभव सही अनुवाद कर डालूं और अपने चिट्ठे में शामिल करूं।

मैं व्यावसायिक अनुवादक नहीं हूं। अंग्रेजी से हिन्दी में लंबा-चौड़ा अनुवाद करने का प्रयास मैंने कभी किया भी नहीं। अपनी निजी जरूरत के अनुसार कभी-कभी कुछएक वाक्यों या छोटे-मोटे अनुच्छेद का अनुवाद अवश्य कर लिया करता था। उक्त अंग्रेजी समाचार देख मैंने सोचा कि इस बार पूरे समाचार के ही अनुवाद का प्रयास किया जाये। मेरे लिए यह एक प्रयोग तो था, और साथ में अपने पाठकों से समाचार को हिन्दी में साझा करने का अतिरिक्त संतोष! सो आगे प्रस्तुत है उक्त समाचार का अनुवाद। ध्यान दें कि ब्रैकेटों (कोष्ठकों) में मेरे स्वयं के जोड़े गये शब्द हैं। -योगेन्द्र जोशी

 %e0%a4%a8%e0%a4%b0%e0%a5%87%e0%a4%a8%e0%a5%8d%e0%a4%a6%e0%a5%8d%e0%a4%b0-%e0%a4%ae%e0%a5%8b%e0%a4%a6%e0%a5%80-%e0%a4%b5%e0%a5%87%e0%a4%ac%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%87%e0%a4%9f%e0%a5%87%e0%a4%82

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंत्रालयों को क्षेत्रीय भाषाओं में वेबसाइटें बनाने के निर्देश दिए हैं

प्रधानमंन्त्री नरेन्द्र मोदी ने सभी मंत्रालयों को निर्देश दिये हैं कि वे अपनी वेबसाइटों (जालस्थलों?) को आधिकारिक मान्यताप्राप्त समस्त क्षेत्रीय भाषाओं में पेश करें।

“प्रधानमंन्त्री जी चाहते हैं कि केन्द्र सरकार की वेबसाइटें केवल अंग्रेजी एवं हिन्दी में उपलब्ध न हों .. वे बहुभाषीय हों क्योंकि देश भर की जनता जानकारी के लिए [उन पर खोजती है]। यह अब प्राथमिकता का कार्य है।” एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने ईटी [इकनॉमिक टाइम्ज़] को बताया।

यह उन मंत्रालयों के लिए वृहत्काय चुनौती होगी जो अभी अपनी वेबसाइटों को पूर्णतः द्विभाषी बनाने में संघर्ष कर रही हैं। इस समय केवल प्रधानमंत्री कार्यालय की वेबसाइट क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध है। यह अंग्रेजी एवं हिन्दी के अलावा आठ क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध है, जब कि पत्र सूचना कार्यालय अंग्रेजी, हिन्दी तथा उर्दू के अतिरिक्त 12 क्षेत्रीय भाषों में प्रेस प्रकाशनी (press release) पेश करती है।

नोदी [जी] के मन की बात कार्यक्रम के सभी 23 आधिकारिक मान्यताप्राप्त भारतीय भाषाओं में उपलब्ध कराये जाने के बाद यह नया निदेश प्राप्त हुआ है।

उपर्युक्त अधिकारी ने कहा, “प्र.मं की दृष्टि है कि लोगों को अंकीय/डिजिटल सामग्री तक पहुंच उनकी अपनी भाषा में हो।” इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना मंत्रालय को यह कार्य सोंपा गया है, जिसने अपने आरएंडडी [अनुसंधान एवं विकास] तथा सीडैक [उन्नत कंप्यूटन विकास केन्द्र] में विभाजित किया है।

एमईआईटी [इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय] के अधिकारी ने कहा कि एक दर्जन क्षेत्रीय भाषाओं को वांछित परिधि में लाने से पहले प्रथम लक्ष्य केन्द सरकार की 50 वेबसाइटों को अगली अप्रैल तक द्विभाषी – अंग्रेजी एवं हिन्दी में – बनाना है।

अधिकारी ने कहा कि आइटी (सूचना प्रौद्योगिकी) मंत्रालय मशीन अनुवाद पर आधारित प्रौद्योगिकी के माध्यम से सक्षमता प्रदायक ढांचा बनाएगा, जिससे मंत्रालय अपनी सामग्री को विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं मे स्वयं अनुवाद कर सकें। हम कई मूल्यांकनकर्ताओं को [अनुवाद] भेजेंगे – ये वे लोग होंगे जो सुयोग्य हों और उन्हें सरसरी निगाह से देखने और शीघ्र अनुवाद करने की क्षमता हो। मत्रालय वहां से ग्रहण करें।

अधिकारी ने बताया कि सीडैक के अलावा अन्य संस्थाओं, जैसे आईआईटी मद्रास एवं जादवपुर विश्वविद्यालय, को परियोजना में शामिल किया जायेगा, जिन्होंने मशीन अनुवाद में कार्य किया है और कुछ बौद्धिक संपदा अर्जित की है

अधिकारी ने यह भी जोड़ा कि सरकारी योजना क्षेत्रीय भाषाओं में आधिकारिक वेबसाइट बनाने में मशीन अनुवाद को मानव हस्तक्षेप के मिलाएगी। ऐसा इसलिए कि मशीन अनुवाद की परिशुद्धता लगभग 70% मात्र होती है।

“अतः एक व्यक्ति – संपादक के माफ़िक – मशीन अनुवाद के प्रारूप पर नजर डाले और उसे परिशुद्धता के साथ परिवर्तित करे। यानी पहला प्रारूप मशीन अनुवाद का होगा और मनुष्य उस पर चौकसी रखे।” अधिकारी ने कहा।

राज्यों को हिदायत दी गयी है कि वे अपनी वेबसाइटों को क्षेत्रीय भाषाओं में बनायें। “राज्यों को दी जाने वाली कुछ सेवाओं के लिए हम अतिरिक्त स्थानीय भाषा पर विचार कर सकते हैं, जो संबंधित राज्य की जरूरत पूरी करता हो।” अधिकारी ने कहा।

समाप्त

हिन्दी दिवस, २०१६

आज हिन्दी दिवस है, १४ सितंबर। सन् १९५० से आज तक ६६ वर्षों से हिन्दी दिवस मनाया जा रहा है, एक ही ढर्रे से। कहीं वन-डे प्रोग्राम (यानी एकल-दिवसीय कार्यक्रम), तो कहीं वन-वीक प्रोग्राम (साप्ताहिक कार्यक्रम), और कहीं वन-फ़ोर्टनाइट प्रोग्राम (पाक्षिक कार्यक्रम)। दिवस मनाने का वही बासी पड़ चुका तरीका। उन लोगों के भाषण होंगे जिन्हें व्यक्तिगत तौर पर हिन्दी से कोई लेना-देना नहीं, किंतु जिनके सामने हिन्दी के बाबत कुछ कहने की विवशता आ जाती है। हिन्दी आम जन की भाषा है, देश की संपर्क भाषा है, राष्ट्रीय एकता की निशानी है इत्यादि जुमले वक्ताओं के मुख से प्रायः निसृत होते हैं। हमें हिन्दी का अधिकाधिक प्रयोग करना चाहिए, शिक्षा मातृभाषा में होनी चाहिए, आधिकारिक कार्य हिन्दी अथवा क्षेत्रीय भाषाओं में होना चाहिए, इत्यादि सलाह साल-दर-साल दी जाती है। जिन्हें यह सब करना है वे अंगरेजी को यथावत अपनी जगह बनाये रखे हैं।

कथनी एक और कथनी कुछ और। पता नहीं आगामी कितनी दशाब्दियों- शताब्दियों तक पीढ़ी-दर-पीढ़ी यह सिलसिला चलता रहेगा।

भाषणबाजी के अलावा हिन्दी दिवस मनाने के और भी तरीके प्रचलन में हैं। संस्थाएं निबंध-लेखन, वाद-विवाद, कर्मियों के लिए हिंदी-टंकण आदि की प्रतिस्पर्धाएं भी आयोजित करती हैं और विजेताओं को पुरस्कृत करती हैं। वर्ष में एक बार सितंबर में यह सब ठीक वैसे ही होता है जैसे पावस ऋतु का आना और जाना। सितंबर की समाप्ति होते-होते आकाश से बादल छंट जाते हैं और उसी के साथ तिरोहित होता है हिन्दी के प्रति जागृत अल्पकालिक उत्साह।

जरूरी है क्या हिन्दी दिवस

इस हिन्दी दिवस की आवश्यकता को मैं आज तक नहीं समझ सका। पता नहीं कितने देशों में तत्सदृश भाषा दिवस मनाये जाते हैं।  देश यथावत चल रहा है। अंगरेजी की अहमियत बढ़ रही है घट नहीं रही। जो कार्य अंगरेजी में होता आया है वह आज भी वैसे ही चल रहा है। हिन्दी एवं अन्य भाषाएं आम बोलचाल तक सीमित होती जा रही हैं। और वे अंगरेजी के साथ खिचड़ी बनती जा रही हैं। अब हालत यह हो रही है कि कई लोगों की हिन्दी बिना अंगरेजी के समझना मुश्किल है। हिन्दी का अंगरेजीकरण बदस्तूर चल रहा है।

तब क्या है इस हिन्दी दिवस की आवश्यकता? किसको हिन्दी के प्रति प्रेरित किया जाना है? जिस देश के लोग खुद मान चुके हैं कि अंगरेजी के बिना देश नहीं चल सकता, प्रगति नहीं कर सकता, सुख-समृद्धि की कुंजी तो अंगरेजी है, इत्यादि उन्हें हिन्दी दिवस की क्या जरूरत?

कभी-कभी हिन्दी को लेकर बहुत कुछ लिख जाने का मन होता है मेरा। जोश चढ़ता है लेकिन उसके स्थायित्व की कमी रहती है और लेखन का तारतम्य अक्सर टूट जाता है। लेख की प्रगति स्वयं की दृष्टि में संतोषप्रद नही रह जाती है। फिर भी हाल में अपने अल्पकालिक कनाडा प्रवास के अंगरेजी बनाम फ़्रांसीसी संबंधी अनुभव को पाठकों से साझा करने का विचार है। उस विषय पर दो-तीन लेख लिखने हैं, किंतु आज नहीं। आज तो अपने अनुभवों को लेकर एक दो टिप्पणियां काफ़ी होगा।

मैं उपदेशात्मक या निर्देशात्मक लेख नहीं लिखता। इस ब्लॉग में हो या मेरे दूसरे ब्लॉगों में अथवा अन्यत्र, मेरा लेखन यथासंभव तथ्यों के उद्घाटन पर केंद्रित रहता है। उनसे जिसको जो निष्कर्ष निकालना हो वह निकाले। क्या करने योग्य है क्या नहीं यह सुधी जन स्वयं सोचें।

एक अनुभव यह भी

शुरुआत मैं कुछ समय पहले अपने अनुभव में आए एक वाकये के उल्लेख के साथ कर रहा हूं। घटना हिन्दी से जुड़ी है और हिन्दी क्षेत्र के लोगों का उसके प्रति क्या रवैया है इसकी एक झलक प्रस्तुत करता है। इस प्रकार की छोटी-मोटी घटनाएं तो रोजमर्रा के जीवन में हम सभी के साथ प्रायः होती रहती हैं, किंतु उन पर सामान्यतः ध्यान नहीं दिया जाता है। अपनी वैज्ञानिक पृष्ठभूमि के कारण मेरी यह “खराब” आदत बन चुकी है कि मैं घटनाओं को गौर से देखता हूं। अपने वैज्ञानिक अनुसंधान के कार्य में यह तो करना ही पड़ता था, अन्य स्थलों पर भी आदत से मजबूर रहता हूं। घटना का विवरण कुछ यों है –

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) परिसर में अवस्थित भारतीय स्टेट बैंक शाखा के अहाते में पासबुक प्रिंट (मुद्रित) करने की एक आटोमैटिक (स्वचालित) मशीन लगी है। ( मैं बीएचयू में ही भौतिकी-शिक्षक था।) उस दिन मैं अपनी और अपने परिवारी जनों के पासबुक लेकर बैंक पहुंचा था। उन पासबुकों पर कोई तीन-एक साल से प्रिंटिग (मुद्रण) नहीं हुई थी, क्योंकि घर पर ही इंटरनेट से बैंक-खातों की जानकारी मिल जाया करती है। किंतु मौका देख विचार आया कि पासबुकें प्रिंट कर ली जाएं। मैं मशीन के पास लगी पंक्ति में शामिल हो गया। अपनी बारी आने पर मैंने पाया कि मेरी अकेली एक पासबुक प्रिंट होने में ही पर्याप्त समय लग रहा है। चूंकि बैंक के ग्राहकसेवा का समय समाप्त हो चला था, अतः उस स्थान की भीड़ छंटने लगी थी। सदाशयता के नाते मैं पंक्ति से बाहर निकल आया यह सोचकर कि जब अन्य जनों का कार्य पूरा हो जाएगा तब फुरसत से अपना कार्य पूरा कर लूंगा।

वह स्वचालित मशीन प्रिंटिंग आरंभ करने से पहले प्रक्रिया संबंधी संदेश ध्वनित रूप में (न कि पर्दे पर लिखित रूप में) प्रदान करती है। उसके पहले ग्राहक को पर्दे पर संदेश मिलता है हिन्दी अथवा अंगरेजी का विकल्प चुनने के बारे में। उपस्थित जन क्या विकल्प चुनते हैं इस पर मैं गौर कर रहा था। मैंने पाया कि हर कोई अंगरेजी का ही विकल्प चुन रहा था। सार्वजनिक स्थल पर यदि ऐसा कुछ घटित हो रहा हो जो मुझे अप्रिय लगे तो मैं टिप्पणी किए बिना प्रायः नहीं रह पाता हूं। मित्र-परिचित मेरे इस स्वभाव को “गंदी आदत” कहते हैं। उक्त अवसर पर सभी को सुनाते हुए मेरे मुंह से निकला, “आप लोग आम तौर पर हिन्दी बोलते हैं, तब यहां पर हिन्दी क्यों नहीं चुन रहे हैं?”

मेरी टिप्पणी सुनना उनके लिए नितांत अप्रत्याशित था। वे प्रश्नभरी निगाह से मेरी ओर देखने लगे। फिर उनमें से एक उच्चशिक्षित एवं संभ्रांत-से लग रहे नौजवान (मेरे अनुमान से बीएचयू में शिक्षक/शोधकर्ता) ने कहा, “हमारी सरकारी व्यवस्था ही ऐसी हो चुकी है कि सर्वत्र अंगरेजी का बोलबाला है। अब तो आदत ही हो चली है अंगरेजी की। तब हिन्दी का प्रयोग न करें तो क्या फर्क पड़ता है?” और उसके बाद देखा कि उन्होंने अंगरेजी का ही विकल्प चुना।

वहां मौजूद अधिकांशतः सभी चुप रहे। कुछ मेरी ओर मुस्कराते हुए देखने लगे, गोया कि मैंने कोई अजीब-सी या बेतुकी बात कही हो। फिर एक अधेड़ – जो हावभाव से बीएचयू के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी लग रहे थे – की प्रतिक्रिया आई, “अंगरेजी तो सारी दुनिया में चल रही है। तब उसे छोड़ हिन्दी में कार्य करने का क्या फायदा?”

मैंने पहले व्यक्ति को यह समझाने की कोशिश की कि वस्तुस्थिति को बदलने का प्रयास तो हम में से प्रत्येक को ही करना चाहिए, अन्यथा अंगरेजी के वर्चस्व वाली स्थिति यथावत बनी रहेगी। दूसरे व्यक्ति को मैंने यह जताने का प्रयास किया कि दुनिया के अधिकांश देशों में अंगरेजी का प्रयोग रोजमर्रा के जीवन में उतना नहीं होता जितना अपने देश में। वहां अंगरेजी के बिना भी लोग अपना कार्य बखूबी करते हैं। उन्हें अपनी गलतफहमी छोड़नी चाहिए।

अंगरेजी की वैश्विकता का भ्रम

यह घटना दो बातों की ओर संकेत करती हैः (1) पहला यह कि देशवासियों में यह गंभीर भ्रम व्याप्त है कि विश्व में सर्वत्र अंगरेजी में ही कार्य होता है, और (2) दूसरा यह कि जब केंद्र एवं राज्य सरकारें ही अंगरेजी में कार्य करती हैं, उसी को महत्व दे रही हैं, तो आम आदमी क्यों हिन्दी अपनाए ? यह दूसरी बात अधिक गंभीर है, क्योंकि किसी के भ्रम का निवारण करना संभव है, किंतु प्रशासनिक जडत्व दूर करना असंभव-सा है।

ऊपर जिन दो बातों का उल्लेख मैंने किया है वे उक्त अकेली घटना पर आधारित नहीं हैं। अपने विश्वविद्यालयीय जीवन में तथा अन्य मौकों पर लोगों के साथ बातचीत में मुझे उक्त बातों का अनुभव होता रहा है। लोग अपनी धारणा के पक्ष में तर्क-कुतर्क पेश करते हुए भी पाया है।

लोगबाग शायद अब तक यह भूल गये होंगे कि जब चीन के बीजिंग शहर में ओलंपिक खेल आयोजित (2008) हुए थे तो वहां पहली बार सड़कों, क्रीड़ागनों, होटलों तथा अन्य भवनों के नामपट्ट आदि अंगरेजी में भी लिखे गये थे। उसके पहले अंगरेजी में नामपट्ट कहीं-कहीं अपवाद स्वरूप दिखाई देते थे। यह भी याद करें कि कई जगह तो चीनी से अंगरेजी में किए गए अनुवाद हास्यास्पद हो चले थे।

अभी हाल में मेरे एक निकट संबंधी जर्मनी किसी सम्मेलन में गये थे। उन्होंने बताया कि भारतीयों की आम धारणा के विपरीत उन्हें वहां भाषाई समस्या का सामना करना पड़ा, खास तौर पर छोटे-मोटे होटल-रेस्तरां में। ऐसा ही अनुभव मुझे कोई 30 साल पहले पेरिस में हुआ था। जिन लोगों को चीन, जापान, ब्राजील में प्रवास का अनुभव है वे जानते हैं कि वहां अंगरेजी से काम नहीं चलता। यह भी याद करें कि बोफोर्स घोटाले के आरोपी “ओताविओ क्वात्रोची” को अर्जेंटिना देश से सी.बी.आई. प्रत्यर्पण इसलिए नहीं करा पाई कि स्पेनी भाषा में लिखित मामले से संबंद्ध दस्तावेजों का अंगरेजी में अनुवाद कराने में उसको (सी.बी.आई. को) मुश्किल आ रही थी।

उक्त बातों से क्या निष्कर्ष निकलता है?

यही न कि अंगरेजी की विश्व-व्यापकता को लेकर भारतीयों में भ्रम व्याप्त है जिसके चलते वे अंगरेजी को हर स्थल पर हर अवसर पर वरीयता देते हैं। किंतु इस भ्रम से उनको मुक्त करना अतिकठिन असंभव-सा कार्य है, क्योंकि यह भ्रम बरकरार रहे ऐसा प्रयास करने वाले लोग देश में अधिक हैं उनकी तुलना में जो इस भ्रम को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। दुर्भाग्य तो यह है कि हिन्दी के कई पक्षधर स्वयं इसी भ्रम में जी रहे हैं और हिन्दी की बात वे भावनावश करते हैं। अंगरेजी की व्यापकता की बात मिथ्या है इसकी बात वे नहीं करते।

मैकॉले की शिक्षा नीति

वे क्या कारण हैं कि अंगरेजी भारतीय भाषाओं के ऊपर अजेय वर्चस्व पा सकी है और वह यहां के जनमानस पर जादुई तरीके से राज करती आ रही है? जो कारण मेरी समझ में आते हैं उनमें प्रमुख है अंगरेजी हुकूमत की वह नीति जिसे लोग “मैकॉले की शिक्षा नीति” के नाम से जानते हैं। करीब पौने दो सौ साल पहले की उस नीति का सार मैकॉले के अधोलिखित कथन में निहित हैः

“We must do our best to form a class who may be interpreters between us and the millions whom we govern; a class of persons Indian in blood and colour, but English in taste, in opinions, words, and intellect.” – T.B. Macaulay, in support of his Education Policy as presented in 1835 to the then Governor-General, Willium Bentick.

हमारे तथा जिन पर हमारा शासन है ऐसे करोड़ों जनों के बीच दुभाषिए का कार्य करने में समर्थ एक वर्ग तैयार करने के लिए हमें भरपूर कोशिश करनी है; उन लोगों का वर्ग जो खून एवं रंग में भारतीय हों, लेकिन रुचियों, धारणाओं, शब्दों एवं बुद्धि से अंग्रेज हों।” (हिन्दी अनुवाद मेरा)

ब्रिटिश हुकूमत की वह नीति कैसे सफल हुई और उसके चलते कैसे एक सशक्त प्रशासनिक बिरादरी ने इस देश में जड़ें जमाई इसकी चर्चा मैं अगले आलेख में करूंगा।  आपको यह स्वीकरना होगा कि विलायत के शासकों ने इसी जमात की मदद से इस देश पर राज किया था। यही वह तबका था जो स्वयं को अंग्रजों के निकट और आम लोगों से अलग रहने/दिखने का शौक रखता था और आज भी रखता है। इस देश का “इंडियाकरण” इसी सामाजिक वर्ग का अघोषित उद्येश्य रहा है ऐसी मेरी प्रबल धारणा है। और भी बहुत कुछ रहा है। … अभी के लिए लगभग पौने-उन्नीस सौ शब्दों का यह आलेख पर्याप्त है। – योगेन्द्र जोशी

Tags:

दृष्टांत अंगरेजी  का – स्पाई कैमरा की प्रयोग-विधि

मैंने हाल ही में एक सस्ते किस्म का “स्पाई कैमरा” शौकिया खरीदा, “ई-शॉपिंग” के माध्यम से । आजकल बाजार में चीन के बने सस्ते – और मेरी राय में घटिया दर्जे के – इलेक्ट्रिॉनिक उत्पाद बहुतायत में मिल जाते हैं । अपने देश में तो ये भी नहीं बन पाते हैं, भले ही हम प्रथम प्रयास में ही स्वनिर्मित यान मंगल ग्रह पर उतारने में सक्षम हों । उक्त कैमरे के साथ प्रयोगविधि संबंधी एक पन्ने पर छपी जो पाठ्यसामग्री यानी निर्देश-पुस्तिका मिली उसकी प्रति यहां प्रस्तुत है| यह द्विभाषी है, अंगरेजी एवं चीनी भाषा में मुद्रित । अंगरेजी स्पष्टतः विदेशियों के लिए होगी जो चीनी भाषा नहीं जानते हैं, और चीनी मैडरिन खुद चीनियों के लिए ।

Spy-Camera Doc 1500x...

समझ से परे अंगरेजी

जब मैंने उपर्युक्त निर्देश-पुस्तिका पढ़ने की कोशिश की तो पाया कि इसमें दी गई पाठ्यसामग्री अपनी समझ से परे है । शब्द अंगरेजी के हैं परंतु उनसे सार्थक वाक्य बन पा रहे हैं ऐसा मुझे लगता नहीं । अवश्य ही वर्तनी की त्रुटियां भी कहीं-कहीं दिखाई देती हैं । सही वाक्य-विन्यास एवं अर्थपूर्ण शब्दों के चयन के अभाव में वर्तनी की खास अहमियत नहीं रह जाती है । हो सकता है कि अनुभवी व्यक्ति पाठ का सही-सही अर्थ खोजने में समर्थ हों, किंतु मुझे ऐसा कर पाने में कठिनाई हो रही थी । यह बात अलग है कि अंततः उक्त स्पाई कैमरा की कार्य-प्रणाली तुक्के, सहज बुद्धि और अनुभव के आधार पर मैं खोज निकालने में सफल हो गया ।

अंगरेजी की उक्त पाठ्यसामग्री ने एक सवाल जरूर मेरे सामने खड़ा किया । क्या वजह रही होगी कि कैमरा बनाने वाली कंपनी ढंग की निर्देश-पुस्तिका तैयार नहीं कर पाई । अवश्य ही कंपनी एक छोटी एवं सामान्य संस्था होगी जिसका कारोबार कुटीर उद्योग के माफिक होगा । लेकिन क्या उसकी पहुंच अंगरेजी जानने वाले एवं सीधी-सरल अंगरेजी में उक्त युक्ति के बारे में लिख सकने में समर्थ किसी व्यक्ति तक नहीं रही होगी ? अपने देश भारत में तो आपको अंगरेजी के विशेषज्ञ भले ही आसानी से न मिलें, किंतु संबंधित युक्ति की कार्यप्रणाली का कामचलाऊ लेखाजोखा तो लिख सकने वाले मिल ही जाते । कदाचित ऐसा हुआ होगा कि जिस चीनी व्यक्ति ने उक्त पाठ तैयार किया हो उसे अपनी अंगरेजी ठीक लगी हो, और उसे शंका ही न हुई हो वह ठीक से नहीं समझा पाया है । यह भी हो सकता है कि अंगरेजी में ठीक-ठाक लिख सकने वाले बिना फीस लिए मिले ही न हों, और संस्था उत्पाद सस्ता बना रहे इस विचार से अधिक खर्च करने को तैयार न हों ।

उपर्युक्त निर्देश पुस्तिका देख मैं इस नतीजे पर पहुंचा हूं कि चीन में लोगों का अंगरेजी ज्ञान उतना अच्छा नहीं होता जितना अपने देशवासी सोचते हैं । मैं उच्चाध्ययन के सिलसिले में इंग्लैंड में रह चुका हूं तथा अमेरिका, फ्रांस, इटली जा चुका हूं, जहां मेरे अनुभव में यही आया है कि चीन के लोग विविध विषयों का ज्ञान तो अच्छा रख सकते हैं, किंतु उन्हें अंगरेजी में अपनी बात ठीक-से प्रस्तुत करने में कठिनाई होती है । दरअसल यूरोप के देशों और अंगरेजों के पराधीन रह चुके देशों को छोड़ दें तो हम यही पाऐंगे कि वहां के अधिकांश निवासियों को अंगरेजी में असुविधा ही होती है । यह बात चीन, जापान, कोरिया पर बखूबी लागू होती है । हम मीडिया में इन देशों के राजनयिकों, मीडिया-कर्मियों, एवं विषय-विशेषज्ञों को देखकर यह निष्कर्ष निकाल बैठते हैं कि वहां की आम जनता को अंगरेजी आती है और वे उसे रोजमर्रा के जीवन में सफलतापूर्वक इस्तेमाल भी करते हैं ।

अंगरेजी उतनी नहीं प्रचलित जितनी बताई जाती है

मुझे अपने एक मित्र की प्रासंगिक बात याद आती है । सिंगापुर की बहुराष्ट्रीय कंपनी में कार्यरत उनके पुत्र को एक बार कारोबार के सिलसिले में बीजिंग जाना था । तब उन्होंने बताया था कि उनके पुत्र को यह चिंता थी कि किस प्रकार वह अपने चीनी व्यवसायी को अपने उत्पाद के बारे में प्रभावी ढंग से बता पायेगा, क्योंकि उनसे स्तरीय अंगरेजी की अपेक्षा नहीं की जा सकती है, यानी वे पर्याप्त अंगरेजी जानते ही हों यह आवश्यक नहीं है । अपने देश के अंगरेजी पक्षधरों को इस बात पर विश्वास ही नहीं होगा कि चीन के कारोबरी अवश्यमेव अंगरेजी जानें यह जरूरी नहीं ।

जैसा मैंने आरंभ में कहा अपने देश में चीनी माल धड़ल्ले से बिक रहा है । वहां से आने वाले माल में रोजमर्रा की छोटीमोटी उपभोक्ता वस्तुएं प्रमुख हैं और उनमें एक है कैंची । कुछएक दिन पहले मैंने एक कैंची खरीदी थी, उसी की पैकिंग की आगे-पीछे की तस्वीर यहां प्रस्तुत है:

गौर से देखिए कि इस पर अंकित जानकारी मुख्यतः चीनी मैंडरिन में है, कहीं-कहीं अंगरेजी में भी है । मेरा अनुमान है कि इस उत्पाद की पैकिंग अंतरराष्ट्रीय बाजार के लिए न होकर चीन के घरेलू उपभोक्ताओं के लिए होगा, और अपने देश भारत में वह “गलती” से पहुचा होगा । सवाल पूछा जा सकता है कि कैंची चीनी देशवासियों के लिए हो या विदेशियों के लिए, पैकिंग पर तत्संबंधित जानकारी क्या अंगरेजी में ही नहीं होनी चाहिए थी ?

Scissor fromChina B

भारतीय मानसिकता

उक्त सवाल इसलिए कि अंगरेजी की वकालत करने वाले अपने देशवासी यही तो कहते हैं कि सारी दुनिया में अंगरेजी ही तो चलती है ।

क्या हम अपने यहां कल्पना कर सकते हैं कि किसी उपभोक्ता सामग्री के साथ अंकित पाठ केवल भारतीय भाषा में हो ? नहीं ! बिस्कुट का पैकेट हो या नमक का, डिटर्जेंट की पैकिंग हो या कैंची की, उस पर जानकारी अंगरेजी में ही होगी, विदेशियों के लिए नहीं बल्कि अपने ही देशवासियों के लिए जिनमें अंगरेजी पढ़लिख सकने वाले 10-15 फीसदी से अधिक नहीं होंगे । लेकिन परवाह किसे उन लोगों की जो अंगरेजी नहीं जानते ?

अंत में मैं बाजार में उपलब्ध बूंदी के एक पैकेट का चित्र प्रस्तुत कर रहा हूं।

इस पैकेट पर अंकित पाठ मुख्यतः अंगरेजी में है, लेकिन गौर करें कि एक स्थल पर थोड़ी जानकारी अरबी में भी मुद्रित है । लगता है कि यह निर्यात के विचार के मुद्रित है । अपने यहां के व्यवसायी अरबी में जानकारी दे सकते हैं, किंतु भारतीय भाषाओं में नहीं । मैं आज तक नहीं समझ पाया कि उन्हें देशज भाषाओं से इतना परहेज क्यों है ?

इस विषय पर अन्य कई दृष्टांत मेरे विचार में आ रहे हैं । उनकी चर्चा अगले आलेख में । – योगेन्द्र जोशी

Bundi Packet & Arabic

लिवे देवते टीवी तस्वीर

श्रीमतीजी टेलीविजन पर कार्यक्रम देख रही थीं, और मैं कमरे के एक कोने में कुर्सी पर बैठा अखबार के पन्ने पलट रहा था । अचानक उन्होंने ने आवाज दी, “अरे भई, ये ‘लिवे देबते’” क्या होता है ?

“‘लिवे देबते’ ? देखूं, कहां लिखा है ?” कहते हुए मैं उनकी ओर मुखातिब हुआ । उन्होंने टीवी की ओर इशारा किया । मैंने उस ओर नजर घुमाई तो पता चला कि वे समाचार चैनलों पर कूदते-फांदते ‘एबीपी न्यूज’ पर आ टिकी हैं । पर्दें पर चैनल नं., समय, कार्यक्रम, आदि की जानकारी अंकित थी । चैनल बदलने पर इस प्रकार की जानकारी हिंदी में हमारे टीवी के पर्दे पर 2-4 सेकंड के लिए सदैव प्रकट होती है । उस विशेष मौके पर, राजनेता, पत्रकार तथा विशेषज्ञों के 5-6 जनों के जमावड़े के बीच किसी मुद्दे को लेकर बहस चल रही थी ।

मैंने पाया कि टीवी पर्दें पर उपलब्ध जानकारी में वास्तव में ‘लिवे देबते’ भी शामिल था । उसे देख एकबारगी मेरा भी माथा चकराया । इस ‘लिवे देबते’ का मतलब क्या हो सकता है ? अपने दिमाग का घोड़ा सरपट दौड़ाते हुए मैं उसकी खोज में मन ही मन निकल पड़ा । मेरे दिमाग में यह बात कौंधी कि यह तो हिंदी के कोई शब्द लगते नहीं । स्वयं से सवाल किया कि ये कहीं किसी अन्य भाषा के शब्द तो नहीं जो अंगरेजी के रास्ते यहां पहुंचे हों ! रोमन में ये कैसे लिखे जाएंगे यह जिज्ञासा भी मन में उठी और मुझे तुरंत बुद्धत्व प्राप्त हो गया । समझ गया कि यह तो ‘LIVE DEBATE’ है जो उस कार्यक्रम का सार्थक शीर्षक था । वाह! वाह रे चैनल वालो, कार्यक्रम को हिंदी में ‘जीवंत बहस’ या इसी प्रकार के शब्दों में लिख सकते थे । अथवा इसे ‘लाइव डिबेट’ लिख देते । न जाने किस मशीनी ‘ट्रांसलिटरेशन’ (Transliteration) प्रणाली का उन्होंने प्रयोग किया कि यह ‘लिवे देबते’ बन गया । ध्यान दें कि रोमन अक्षरों के लिए L = ल, I = ई, V = व, E = ए, D = द, B = ब, A = अ, T = त, का ध्वन्यात्मक संबंध स्वीकारने पर उक्त लिप्यांतरण मिल जाता है । परंतु अंगरेजी में रोमन अक्षरों की घ्वनियां इतनी सुनिश्चित नहीं होतीं यह संबंधित लोग भूल गये ।

और जब दूसरे दिन फिर चैनल को हम देखने बैठे तो देखा कि गलती दूर हो चुकी है ।  पर्दे पर ‘लाइव डिबेट’ अंकित नजर आरहा था।

इस घटना ने इस तथ्य की ओर हमारा ध्यान खींचा कि हमारे देश में सर्वत्र अंगरेजी छाई हुई है और हिंदी माध्यमों पर परोसी जाने वाला ज्ञान अंगरेजी में उपलब्ध जानकारी के अनुवाद/लिप्यांतरण पर आधारित होता है; अथवा तत्संबंधित उच्चारण को देवनागरी में प्रस्तुत किया जाता है । इस प्रक्रिया में कभी-कभी हास्यास्पद प्रस्तुति भी पेश हो जाती है, क्योंकि अनुवाद करने वाला शब्दों से संबंधित ध्वनियों से सदैव वाकिफ नहीं होता और शायद उसे किसी स्रोत से जानने की कोशिश भी नहीं करता । दो-एक उदाहरणों पर गौर करें:

(1) समाचारपत्र हिन्दुस्तान में मुझे जर्मनी की समाचार/रेडियो/टीवी संस्था का कभी-कभार उल्लेख देखने को मिल जाता है । लिखा रहता है ‘डाइचे विले’ (Deutsche Welle), जब कि होना चाहिए था ‘डॉइच वेलऽ’ – निकटतम उच्चारण । ऐसा क्यों है ? इसका कारण मेरी समझ में इस तथ्य को नजरअंदाज करना है कि अधिकांश यूरोपीय भाषाओं की लिपि मूलतः रोमन है, जिसे लैटिन भी कहते हैं । आवश्यकतानुसार कहीं-कहीं विशेषक चिह्नों (diacritics) का प्रयोग भी होता है । किंतु हर भाषा के उच्चारण के नियम अलग-अलग हैं जो बहुधा अंगरेजी से पर्याप्त भिन्न रहते हैं । उच्चारण की द्ष्टि से फ्रांसीसी एवं तत्पश्चात् अंगरेजी घटिया मानी जाती हैं । जर्मन भाषा के नियम अधिक साफ-सुथरे हैं । कुछ भी हो, किसी व्यक्ति, संस्था अथवा शहर आदि विदेशी नामों का संबंधित भाषा के बोलने वालों के उच्चारण से भिन्न नहीं होना चाहिए । वह नाम उस भाषा में भी रोमन में ही लिखा जाता है तो क्या उसे हम अंगरेजी के हिसाब से बोलें, क्योंकि हम केवल अंगरेजी से सुपरिचित हैं ? जर्मन में ‘आल्बर्त आइंस्ताइन’ बोला जाता है न कि ‘ऐल्बर्ट आइंस्टीन’ । किसे सही माना जाए ? इन बातों की जानकारी मुझे तब हुई जब एम.एससी. पाठ्यक्रम के दौरान मुझे एक आस्ट्रियाई सज्जन से प्राथमिक जर्मन पढ़ने का मौका मिला । (आस्ट्रिया की भाषा भी जर्मन है ।)

(2) मैं जब एम.एससी. में पढ़ता था तो हमें आरंभ के कुछ समय तक रज्जू भैया जी (जो कालांतर में आर.एस.एस. प्रमुख बने थे) ने भी पढ़ाया था । हम लोग फ्रांसीसी वैज्ञानिक Langevin को ‘लांजेविन’ कहते थे । उन्होंने ही हमें बताया कि यह फ्रांसीसी नाम असल में ‘लाजवां’ बोला जाता है । इसी प्रकार यह भी जाना कि वैज्ञानिक Fermat का नाम फर्मा है न कि ‘फर्मैट’

(3) ब्रिटेन का एक शहर है Leicester जहां अनेक भारतीय बसे हैं । मैं उसे ‘लाइसेस्टर’ कहता था । इंग्लैंड पहुंचने पर पता चला कि वह ‘लेस्टर’ है ।

(4) दो-तीन रोज पहले अखबार में अमेरिका के Yosemite राट्रीय उद्यान (कैलिफोर्निया) के बारे में खबर थी । उसमें इस स्थल को ‘योसेमाइट’ कहा गया था । बहुत अंतर तो नहीं, फिर भी यह ‘योसेमिती’ कहा जाता है, जो स्पेनी भाषा पर आधारित है जिसका प्रचलन आारंभ से ही उस क्षेत्र में काफी रहा है । वहां पहुचने पर मुझे पता चला कि जिस शहर को मैं ‘सैन जोस’ (San Jose) समझता था वह दरअसल ‘सान होजे’ कहलाता है ।

किसी भाषा का विस्तृत ज्ञान कदाचित् किसी को नहीं होता है । किंतु जो लोग पत्रकारिता जैसे व्यवसाय में लगे हों उन्हें सही-सही वर्तनी एवं उच्चारण जानने की उत्कंठा होनी ही चाहिए । आज के युग में शब्दकोश तथा इंटरनेट काफी उपयोगी सिद्ध हो सकते हैं । – योगेन्द्र जोशी

भारतीय (बेहतर होगा इंडियंस कहना ) अपनी ही भाषाओं का तिरस्कार क्यों करते हैं? इस सवाल का सर्वस्वीकार्य उत्तर शायद ही कोई दे सकता हो; हां अपनी-अपनी सोच के अनुसार लोग तमाम संभावनाओं की चर्चा कर सकते हैं । इस विषय में मेरे अपने कुछ विचार हैं किंतु उनका उल्लेख मैं इस आलेख में नहीं कर रहा हूं । इस समय मैं एक हालिया (7 मार्च) लेख की चर्चा करना चाहता हूं जो मुझे इकॉनॉमिस्ट-डाट-कॉम पर पढ़ने को मिला था । उसमें उल्लिखित कुछ बातें में यहां प्रस्तुत कर रहा हूं। उसमें कही गई जो बात मुझे खास लगी वह है “प्रायः सभी समाजों में लोग अपनी भाषाओं से अत्यंत लगाव रखते हैं। हिंदी एक अपवाद है।”  अंग्रेजी में लिखित इस लेख का शीर्षक है “The keenest Wikipedians(क्लिक करें) ।

10 लाख से अधिक विकीपीडिया लेख

लेख के अनुसार ‘विकीपीडिया’ विभिन्न भाषाओं में लिखित लेखों का भंडार बन चुका हैं, जिसमें उपलब्ध कई लेख अत्यंत उपयोगी पाए जाते हैं, पर सभी नहीं । विश्व की पांच भाषाओं में 10 लाख से भी अधिक लेख छप चुके हैं । ये भाषाएं हैं: अंग्रेजी (English), जर्मन (German), फ्रांसीसी (French), इतालवी (Italian), एवं डच (Dutch) ।

लेख में बताया गया है कि यूरोप के नेदरलैंड राष्ट्र के 100 प्रतिशत डचभाषी छात्र अंग्रेजी भी पढ़ते हैं, और प्रायः हर नागरिक फर्राटे से अंग्रेजी बोल सकता है । ऐसा क्यों है कि अंग्रेजी जानने के बावजूद डच भाषा में इतने अधिक लेख छपते हैं, जब कि उस देश की जनसंख्या मात्र लगभग 1.7 करोड़ है ? लेखक के अनुसार इसका कारण मात्र यह है कि अन्य भाषाओं की अच्छीखासी जानकारी रखने के बावजूद लोग अपनी भाषाओं से अत्यंत लगाव रखते हैं और उसे ही इस्तेमाल करने की इच्छा रखते हैं ।
अपनी उस भाषा को जिसे लोग छोड़ने की नहीं सोचते उसे लेखक ने “अंडरवेयर लैंग्वेज” (Underwear Language) की संज्ञा दी है ।

1 से 10 लाख तक के लेख

अन्य भाषाओं, जिनके 1 लाख से अधिक लेख विकीपीडिया पर उपलब्ध हैं, में रूसी, अरबी एवं चीनी शामिल हैं । किंतु दिलचस्प तो यह है कि ऐसी भी कुछ भाषाएं हैं जो किसी देश की भाषा के रूप में स्थापित नहीं हैं, फिर भी उनमें छपे लेख 1 लाख से कम नहीं हैं, क्योंकि उन्हें बोलने वाले लोग है और वे उनका भरपूर प्रयोग करने का इरादा रखते हैं । इनमें शामिल हैं स्पेन में प्रचलित गैलिशियन (Galician), बास्क (Basque) तथा कैटलैन (Catalan) भाषाएं । ये स्पेन के उन बाशिंदों की भाषाएं हैं जो स्पेनी बोल सकते हैं और उसे इस्तेमाल भी करते हैं, फिर भी अपनी भाषाओं को प्रयोग में लेना पसंद करते हैं । लेख के अनुसार उक्त तथ्य इस बात का संकेत देता है कि लोग अपनी भाषाओं के प्रति विशेष लगाव रखते हैं ।

परंतु इससे अधिक चकित करने वाली बात तो यह है कि एस्परांटो (Esperanto, यूरोपीय भाषाओं में प्रचलित आम शब्दों पर आधारित एक कृत्रिम भाषा) में करीब 176,800 लेख विकीपीढिया में मिलते हैं । इसी प्रकार वोलापुक (Volapuk, एक अन्य कृत्रिम भाषा, जो लैटिन क्रियाओं को प्रयोग में लेते हुए मुख्यतः अंग्रेजी एवं कुछ सीमा तक जर्मन एवं फ्रांसीसी पर आधारित है) में 119,091 लेखों के छपे होने की बात कही गई है । यह भी जानकारी दी गई है कि इसके बोलने वाले कुछ गिने-चुने लोग ही हैं । फिर भी इतनी बड़ी संख्या में लेखों पर ताज्जुब ता होता ही है । ऐसा प्रतीत होता है कि किसी ने ‘ऑटोट्रांसलेशन’ के जरिये अन्य भाषाओं के लेख वोलापुक में डाल दिए हों ।

दिलचस्प यह है कि विकीपीढिया पर वोलापुक के लेखों की संख्या हिंदी में उपलब्ध लेखों से अधिक है । ऑटोट्रांसलेशन के माध्यम से तो हिंदी में भी लेख छप सकते हैं । फिर किसी ने ऐसा प्रयास क्यों नहीं किया होगा ?

हिंदी को लेकर लेखक की टिप्पणी सीधी-सी है: हिंदी कदाचित् ‘भाषाई लगाव के सिद्धांत’ का एक अपवाद है । अर्थात् हिंदीभाषी स्वयं अपनी भाषा से लगाव नहीं रखते और अंगरेजी लेखों का ही अध्ययन करते हैं । जब आपकी अपनी भाषा में रुचि ही न हो तो उसमें लेख लिखने की जहमत क्या उठाएंगे? यह स्थिति तब है जब हिंदी में लिखित रचनाओं की कोई कमी नहीं और इसके बोलने वाले लोगों की संख्या दशियों करोड़ों में है – किसी भी यूरोपीय भाषा के बोलने वालों से अधिक ।

1 लाख से कम लेख

लेखक ने इस पर आश्चर्य व्यक्त किया है कि अलेमानिक (Alemannic) पीडमोंटीज (Piedmontese) जावानीज (Javanese) में भी लेखों की संख्या (क्रमशः 13,708, 59,303, तथा 43,122) निराशाप्रद है, जब की इनके भाषाभाषियों की संख्या करोड़ों में है । स्पष्ट है कि संबंधित लोग उन अन्य भाषाओं में लेख पढ़ते हैं जिन्हें वे जानते हैं ।

आगे यह भी जानकारी दी गई है कि हावजू (Zhosa) में मात्र 146 लेख ही उपलब्ध हैं । इस भाषा के जानने वालों की संख्या करीब 80 लाख बताई गई है और यह भी कि नेल्सन मंडेला की मातृभाषा है । अपनी भाषाओं के प्रति उदासीनता काफी व्यापक है, और यह उसका एक उदाहरण है ।

विकीपीडिया लेखों के भाषाई आधार पर विभाजन के अध्ययन में एक भाषा हेरेरो (Herero, कुछ अफ्रिकी देशों में बोली जाने वाली भाषाओं में से एक) का भी जिक्र है, जिसमें एक भी लेख शामिल नहीं है, यद्यपि उसका होमपेज बना हुआ है

भाषाई गहराई

लेखक ने भाषाई गहराई (Depth of Language) को भी परिभाषित किया है । अध्ययनकर्ता के अनुसार अहमियत केवल इस बात की नहीं होती है कि कितने लेख अमुक भाषा में लिखित पाए जाते हैं । यह बात भी अहमियत रखती है कि उन लेखों को कितना संपादित किया जाता है, जो लोगों की सक्रिय दिलचस्पी का द्योतक हैं । भाषाई गहराई को दोनों (संख्या एवं गहराई) के अनुपात के तौर पर परिभाषित किया गया है । उम्मीद के अनुरूप 42 लाख लेखों के साथ अंगरेजी अन्य भाषाओं के बहुत आगे पाई गई है । रोचक तथ्य यह भी है कम लेखों के बावजूद हिब्रू, अरबी, फारसी, तथा तुर्की इस गहराई के मामले में जर्मन एवं इतालवी के आगे हैं । हिंदी कहां पर है इसका जिक्र नहीं किया गया है । चीनी भाषा की चर्चा भी कहीं नहीं दिखी ।

बहरहाल इस दुर्भाग्यपूर्ण तथ्य पर अपने देशवासियों को विचार करना चाहिए कि जिस भाषा को राजभाषा का तमगा पहनाया गया है और जो अनेकों जनों की मातृभाषा है, उसी के बोलने वाले उसे इतनी हिकारत की निगाह से क्यों देखते हैं । क्या यह हमारी मानसिक ग़ुलामी का द्योतक है, यानी कि देश राजनैतिक तौर पर तो आज़ाद हो गया लेकिन दिमागी तौर पर नहीं । हाल में संघ लोकसेवा आयोग (UPSC) की परीक्षाओं में अंगरेजी का कद बढ़ाने और देशी भाषाओं को हासिये पर डालने का निर्णय इसी मानसिकता का संकेतक है । (फ़िलहाल वह निर्णय टल गया है ।) – योगेन्द्र जोशी

आज 14 सितंबर यानी ‘हिन्दी दिवस’ है, इंडिया दैट इज भारत की घोषित राजभाषा को ‘याद’ करने का दिन । यह वही दिन है जब 62 वर्ष पहले हिन्दी को संघ की राजभाषा घोषित किया गया ।

मैं आज तक नहीं समझ पाया कि इस देश के संविधान-निर्माताओं के मन में हिन्दी राजभाषा घोषित करने का उत्साह क्योंकर जागा? क्या इसलिए कि ‘अपनी देशज भाषा’ ही स्वाभिमान रखने वाले देश के राजकाज की भाषा होनी चाहिए ? मुझे अपना यह मत व्यक्त करने में संकोच नहीं होता है कि अपने संविधान-निर्माताओं में दूरदृष्टि का अभाव रहा होगा । मैं ऐसा इस आधार पर कहता हूं कि आज राजनैतिक दृष्टि से और राजभाषा की दृष्टि से देश के जो हालात हैं उनकी कल्पना उन्होंने नहीं की । उन्होंने संविधान लिखने में और राजभाषा घोषित करने में आदर्शों को ध्यान में रखा, न कि जमीनी हकीकत को । वे यह कल्पना नहीं कर सके कि भावी राजनेता किस हद तक सत्तालोलुप होंगे और अपने हितों को सही-गलत तरीकों से साधने में लगे रहेंगे । वे यह भी समझ पाये कि भावी जनप्रतिनिधि ‘बांटो और राज करो’ की नीति अपनाकर समाज के विभिन्न समुदायों को वोट-बैंकों में विभाजित कर देंगे ।

मैं संविधान की कमियों की चर्चा नहीं करना चाहता, लेकिन यह अवश्य कहूंगा कि हिन्दी को राजभाषा घोषित करने में संविधान-निर्माता उतावले जरूर रहे । वे इस बात को क्यों नहीं समझ सके कि देश में अंगरेजी का वर्चस्व घटने वाला नहीं, और वह देशज भाषाओं के ऊपर राज करती रहेगी ? वे क्यों नहीं समझ सके कि शासन में महती भूमिका निभाने वाला प्रशासनिक वर्ग हिंदी को कभी बतौर राजकाज की भाषा के पनपने नहीं देगा ? और यह भी कि वह वर्ग समाज में यह भ्रांति फैलाएगा कि अंगरेजी के बिना हम शेष विश्व की तुलना में पिछड़ते ही चले जाएंगे ?

हिंदी के राजभाषा घोषित होने के बाद शुरुआती दौर में अवश्य कुछ हलचल रही, किंतु समय के साथ उसे प्रयोग में लेने का उत्साह ठंडा पड़ गया । तथ्य तो यह है कि एक दशक बीतते-बीतते यह व्यवस्था कर ली गई कि अंगरेजी ही राजकाज में चलती रहे ।

आज स्थिति यह है कि स्वयं केंद्र सरकार हिंदी में धेले भर का कार्य नहीं करती । बस, अंगरेजी में संपन्न मूल कार्य का हिंदी अनुवाद कभी-कभी देखने को मिल जाता है । न तो राज्यों के साथ हिंदी में पत्राचार होता है, न ही व्यावसायिक संस्थाओं के साथ । ऐसी राजभाषा किस काम की जिसे इस्तेमाल ही नहीं किया जाना है ? आप कहेंगे कि शनैः-शनैः प्रगति हो रही है, और भविष्य में हिंदी व्यावहारिक अर्थ में राजभाषा हो ही जाएगी । जो प्रगति बीते 62 सालों में हुई है उसे देखकर तो कह पाना मुश्किल कि कितनी सदियां अभी और लगेंगी ।

इस बात पर गौर करना निहायत जरूरी है कि किसी भी भाषा का महत्त्व तभी बढ़ता है जब वह व्यावसायिक कार्यक्षेत्र में प्रयुक्त होती है । याद रखें कि अंगरेजी अंतरराष्ट्रीय इसलिए नहीं बनी कि वह कुछ देशों की राजकाज की भाषा रही है, बल्कि इसलिए कि संयोग से व्यापारिक कार्यों में वह अपनी गहरी पैठ बना सकी । आम आदमी को केंद्र सरकार के साथ पत्राचार या कामधंधे की उतनी बात नहीं करनी पड़ती है जितनी व्यावसायिक संस्थाओं से । अपने देश की स्थिति क्या है आज ? सर्वत्र अंगरेजी छाई हुई है । देखिए हकीकत:

1.     बाजार में समस्त उपभोक्ता सामग्रियों के बारे में मुद्रित जानकारी अंगरेजी में ही मिलती है । रोजमर्रा के प्रयोग की चीजों, यथा साबुन, टूथपेस्ट, बिस्कुट, तेल आदि के पैकेट पर अंगरेजी में ही लिखा मिलता है ।

2.     अस्पतालों में रोगी की जांच की रिपोर्ट अंगरेजी में ही रहेगी और डाक्टर दवा का ब्योरा अंगरेजी में ही लिखेगा, मरीज के समझ आवे या न, परवाह नहीं ।

3.     सरकारी बैंकों के नोटिस-बोर्डों पर हिन्दी में कार्य करने की बात लिखी होती है, लेकिन कामकाज अंगरेजी में ही होता है ।

4.     स्तरीय स्कूल-कालेजों – अधिकांशतः निजी एवं अंगरेजी माध्यम – में प्रायः पूरा कार्य अंगरेजी में ही होता है । जिस संस्था में हिन्दी में कार्य होता है उसे दोयम दर्जे का माना जाता है, और वहां गरीबी के कारण या अन्य मजबूरी के कारण ही बच्चे पढ़ते हैं । इन घटिया सरकारी स्कूलों के कई छात्रों को तो ठीक-से पढ़ना-लिखना तक नहीं हो आता !

5.     सरकारी संस्थाओं की वेबसाइटें अंगरेजी में ही तैयार होती आ रही हैं । अवश्य ही कुछ वेबसाइटें हिंदी का विकल्प भी दिखाती हैं, लेकिन वे बेमन से तैयार की गईं प्रतीत होती हैं । घूमफिर कर आपको अंगरेजी पर ही लौटना पड़ता है ।

6.     आयकर विभाग के पैन कार्डों तथा राष्ट्रीयकृत बैंकों के एटीएम/क्रैडिट कार्डों जैसे आम जन के दस्तावेजों में राजभाषा कहलाने के बावजूद हिन्दी इस्तेमाल नहीं होती ।

7.     हिन्दीभाषी क्षेत्रों के बड़े शहरों के दुकानों एवं निजी संस्थानों के नामपट्ट अंगरेजी में ही प्रायः देखने को मिलते हैं; हिंदी में तो इक्का-दुक्का अपवाद स्वरूप रहते हैं । लगता है कि होटलों, मॉलों एवं बहुमंजिली इमारतों के नाम हिन्दी में लिखना वर्जित है ।

8.     नौकरी-पेशे में अंगरेजी आज भी बहुधा घोषित एवं कभी-कभार अघोषित तौर पर अनिवार्य बनी हुई है ।

9.     विश्व के सभी प्रमुख देशों के राष्ट्राध्यक्षों/शीर्ष-राजनेताओं को पारस्परिक या सामूहिक बैठकों में अपनी भाषा के माध्यम से विचार रखते देखा जाता है । क्या इस देश के नुमाइंदे ऐसा करते हैं ? पूर्व प्रधानमंत्री बाजपेई अवश्य अपवाद रहे हैं ।

इस प्रकार के तमाम उदाहरण खोजे जा सकते हैं, जिनसे स्पष्ट होता है कि वास्तविकता में अंगरेजी ही देश पर राज कर रही है, और आगे भी करती रहेगी । ‘क्यों ऐसा है’ का तार्किक कारण कोई नहीं दे सकता है । कुतर्कों के जाल में प्रश्नकर्ता को फंसाने की कोशिशें सभी करते हैं ।

दरअसल देशवासियों के लिए अंगरेजी एक उपयोगी भाषा ही नहीं है यह सामाजिक प्रतिष्ठा और उन्नति का द्योतक भी है । यह धारणा सर्वत्र घर कर चुकी है कि अन्य कोई भाषा सीखी जाए या नहीं, अंगरेजी अवश्य सीखी जानी चाहिए । अंगरेजी माध्यम विद्यालयों का माहौल तो छात्रों को यही संदेश देता है । अंगरेजी की श्रेष्ठता एवं देशज भाषाओं की हीनता की भावना तो देश के नौनिहालों के दिमाग में उनकी शिक्षा के साथ ही बिठा दी जाती है ।

मेरे देखने में तो यही आ रहा है कि हिन्दी एवं क्षेत्रीय भाषाएं महज बोलने की भाषाएं बनती जा रही हैं । लिखित रूप में वे पत्र-पत्रिकाओं एवं कतिपय साहित्यिक कृतियों तक सिमट रही हैं । रोजमर्रा के आम जीवन का दस्तावेजी कामकाज तो अंगरेजी में ही चल रहा है । कहने का अर्थ है कि सहायक राजभाषा होने के बावजूद अंगरेजी ही देश की असली राजभाषा बनी हुई है ।

मुझे हिन्दी दिवस मनाने का कोई औचित्य नहीं दिखता । हिन्दी को लेकर हर वर्ष वही रटी-रटाई बातें कही जाती हैं । मंचों से कही जाने वाली ऊंची-ऊंची बातों का असर श्रोताओं पर नहीं पड़ता है, और भी वक्ता इस पर मनन नहीं करता है कि कही गयी बातों को तो वह स्वयं ही अमल में नहीं लाता । गंभीर चिंतन वाले लोग भाषणबाजी नहीं करते बल्कि धरातल पर कुछ ठोस करने का प्रयास करते हैं । सरकारी तंत्र में कितने जन हैं ऐसे ? – योगेन्द्र जोशी