Home

बधाई, शुभकामना एवं अन्य अवसरों पर प्रयुक्त त्रुटिपूर्ण संस्कृत छंदों का प्रयोग

दिसम्बर 4, 2015

महाराष्ट्र में गणेशोत्सव का बड़ा ही महत्व है। वहां यह उसी उत्साह के साथ मनाया जाता है जिस उत्साह से कोलकाता में दुर्गापूजा मनाई जाती है। समय के साथ यह उत्सव भी व्यापकता पा रहा है। मेरे शहर वाराणसी में भी कई गल्ली-मोहल्लों में इस अवसर पर गणेश-प्रतिमाएं स्थापित करके पूजा-अर्चना कार्यक्रम होने लगे हैं। पहले उनके बारे में सुनने को भी नहीं मिलता था।

Ganeshotsav-Shivsena

विगत गणेश-पूजन के अवसर पर मैं मुम्बई महानगर में था। मेरा प्रवास पश्चिम भांडुप इलाके में था। उसे मौके पर मेरी नजर वहां के स्थानीय रेलवे स्टेशन के प्रवेश-मार्ग पर एक राजनैतिक दल के द्वारा स्थापित होर्डिंग पर पड़ी जिसमें जन-साधारण के प्रति बधाई/शुभकामना संदेश प्रस्तुत था। उस होर्डिंग का एक हिस्सा चित्र में प्रस्तुत है। उसमें श्रीगणेश को संबोधित यह श्लोक शामिल है:

वक्रतुंड महाकाय सुर्यकोटि समप्रभः ।

निर्विघ्नमः कुर मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ॥

इस श्लोक में गणेशजी को विभिन्न विशेषणों से संबोधित किया गया है, किंतु उनमें कुछ की वर्तनी त्रुटिपूर्ण है। सुर्यकोटि के बदले कोटिसूर्य होना चाहिए। कोटिसूर्य समप्रभः सामासिक शब्द है, अतः उसमें कोई रिक्ति नहीं होनी चाहिए। इसके अतिरिक्त संबोधनात्मक होने के कारण विसर्ग भी नहीं हो सकते। सही है कोटिसूर्यसमप्रभ (करोड़ों सूर्यों के समान प्रभा वाला)। इसी प्रकार निर्विघ्नमः के स्थान पर सही निर्विघ्नं, और कुर के बदले कुरु होना चहिए। अतः शुद्ध श्लोक इस प्रकार होगा:

वक्रतुंड महाकाय कोटिसूर्यसमप्रभ ।

निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ॥

(हे वक्रतुण्ड, हे महाकाय, हे कोटिसूर्यसमप्रभ, हे देव, सभी कार्यों में मुझे सर्वदा निर्विघ्न करें । निर्विघ्न = कोई विघ्न न हो जिसे ।) [निर्विघ्न बहुब्रीहि समास होना चाहिए; एक स्थल पर मैंने इसे अव्ययीभाव भी देखा है।]

त्योहारों एवं जन्मदिनों जैसे विशिष्ट अवसरों पर बधाई तथा शुभकामना संदेशों में संस्कृत शब्दों, पदबंधों अथवा श्लोकों का अक्सर प्रयोग किया जाता है । लेकिन कहीं उन्हें त्रुटिपूर्ण तरीके से तो नहीं लिखा जा रहा है इस बात के प्रति कम ही लोग सचेत रहते हैं । मेरा अनुमान है कि त्रुटियां बहुधा उस स्रोत पर भी रहती हैं जहां से उन श्लोकों आदि को उद्धृत किया जाता है । त्रुटिया होना स्वाभाविक है। जब कथन दो-चार जनों के बीच सीमित हो तो त्रुटियां कम खलती हैं, परंतु जब उनको व्यापक स्तर पर प्रकाशित किया जा रहा हो, या सार्वजनिक किया जाता हो, जिन्हें अनेकों जन पढ़ रहे हों तो त्रुटि अधिक खलती है। मैं समझता हूं कि ऐसे अवसरों पर विशेष सावधानी बरती जानी चाहिए।

एक बार मुझे मंगलकामना संदेश प्राप्त हुआ जिसे किसी चित्र में देवी-स्तुति के तौर पर प्रस्तुत किया गया था। उसमें यह श्लोक मुद्रित था:

सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके

शरण्ये त्रयंबके गौरी नारायणी नमोःस्तुते ।

इस श्लोक की वर्तनी में विद्यमान कुछएक त्रुटियों को इंगित कर रहा हूं:

(1)    संस्कृत में किसी पद के अंतर्गत वर्णमाला के पांच व्यंजन वर्गों (कवर्ग, चवर्ग, … पवर्ग) के पूर्व अनुस्वार के प्रयोग की परंपरा नहीं है। उसके बदले वर्ग का पांचवां वर्ण लिखा जाता है, जैसे पञ्चम न कि पंचम। अन्यत्र अनुस्वार प्रयुक्त होता है।

(2)    ध्यान दें कि सही शब्द त्र्यम्बक है न कि त्रयंबक । त्र्यम्बक शिव के लिए प्रयुक्त होता है और त्र्यम्बका पार्वती के लिए जिसका संबोधन त्र्यम्बके होता है ।

(3) सर्व मंगल मांगल्ये सामासिक पद का संबोधन रूप है । समास-जनित पद का निरूपण उसके घटकों को पृथक-पृथक लिखकर नहीं किया जा सकता है । अतः सर्वमंगलमांगल्ये लिखना सही है । यही सर्वार्थसाधिके के लिए भी मान्य है ।

(4) नमोःस्तुते सही नही है । यह वस्तुतः तीन पदों का समुच्चय है – नमः अस्तु ते । श्लोक में नमः अस्तु अनिवार्यतः संधि किए जाने पर नमोऽस्तु लिखा जाएगा जब कि ते पृथक लिखा रहेगा ।

(5) गौरी, नारायणी भी देवी के नाम हैं, किन्तु शिवे आदि की भांति ये भी संबोधन के तौर पर प्रयुक्त हैं। तदनुसार इन्हें गौरि, नारायणि लिखा जाना चाहिए।

इस प्रकार सही श्लोक यों लिखा जा सकता है:

सर्वमंगलमांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके ।

शरण्ये त्र्यंबके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ।।

संस्कृत में संधि के अधीन लुप्त हुए को अवग्रह (‍ऽ) से दर्शाने की प्रथा है। (नमः+अस्तु = नमोऽस्तु) 

हाल में दीपावली के अवसर पर श्लोक रूप में अधोलिखित एक मंगलकामना संदेश मिला:

शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा ।

शत्रुबुद्धि विनाशाय दीप: ज्योति नमोस्तुते ॥

मेरी समझ में इसमें भी कुछ त्रुटियां हैं ।

  1. मुझे लगता है कि कल्याणं आदि पदों की तरह धनसंपदा भी द्वितीय विभक्ति में होना चाहिए: एकवचन मानें तो धनसंपदाम् बहुवचन मानें तो धनसंपदा:
  2. शत्रुबुद्धि विनाशाय सामासिक होने के कारण रिक्ति बिना शत्रुबुद्धिविनाशाय होना चाहिए ।
  3. इसी प्रकार दीप: ज्योति को दीपस्य ज्योतिः या समास होने पर दीपज्योति: लिखा जाना चाहिए । दीपस्य ज्योति: करने पर नियमानुसार छन्द नहीं रह जाता है, अतः दीपज्योति: ही ठीक है। (ज्योतिष् नपुंसकलिंग है और इसका संबोधन ज्योति: है।)
  4. जैसा पहले कहा जा चुका है नमोस्तुते के बदले सही नमोऽस्तु ते है ।

इस प्रकार सही श्लोक यों लिखा जाना चाहिए:

शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसम्पदा ।

शत्रुबुद्धिविनाशाय दीपज्योतिः नमऽस्तु ते ॥

कुछ दिनों पूर्व मुझे अपने समाचारपत्र में निम्नलिखित श्लोक पढ़ने को मिला:

कांक्षन्तः कर्मणां सिद्धिम्‍यजन्त अिह देवताः ।

श्रिप्रं हि मानुषे लोके सिद्धिर्भवति कर्मजा ॥

इस श्लोक में भी वर्तनी की अशुद्धियां हैं। पता नहीं इह के स्थान पर अिह कैसे छ्प गया। सिद्धिम्‍यजन्त: इह संधि नियमों के अनुसार सिद्धिं यजन्त इह लिखा जायेगा न कि सिद्धिम्‍यजन्त इह । संस्कृत में क्षिप्रं (शीघ्र, जल्दी ही) शब्द होता है और शायद श्रिप्रं कोई शब्द नहीं होता है । अतः श्लोक यह होना चाहिए:

कांक्षन्तः कर्मणां सिद्धिं यजन्त इह देवताः ।

क्षिप्रं हि मानुषे लोके सिद्धिर्भवति कर्मजा ॥

(कर्मों की सिद्धि की कामना करते हुए एवं देवताओं का यजन करते हुए इस मनुष्य लोक में शीघ्र ही कर्म से सिद्धि मिलती है।)

ऐसी त्रुटियां अक्सर देखने को मिल जाती हैं । मैंने कुछ विज्ञापनों में शत् शत् प्रणाम मुद्रित पाया है, जब कि सही शब्द शत (अकारांत) है न कि शत् (हलंत) ।

इसी प्रकार कहीं-कहीं आर्शिवाद लिखा मिलता है आशीर्वाद के स्थान पर ।

और ऐसे ही कई लोग शृंगार (श्‍+ऋ+अनुस्वार) के स्थान पर त्रुटिपूर्ण श्रृंगार (श्‍+र्+ऋ+अनुस्वार) लिखते हैं ।

दीपावली के मौके पर मैंने अखबार में छपे एक विज्ञापन में मंगलभवः शुभकामना संदेश लिखा देखा । यह न तो व्याकरण की दृष्टि से सही है और न इसका सही-सही अर्थ निकल पाता है । कदाचित् इसे मङ्गलं भवतु/भवेत्/भूयात् होना चाहिए । कोई कदाचित मङ्गल: भव भी सोच सकता है । किंतु वह वांछित अर्थ नहीं देता ।

मंगलभव

यों तो पर्याप्त सावधानी के बावजूद त्रुटियां हो ही जाती हैं । लेकिन विशेष उद्धरणों, प्रचलित वाक्यों अथवा नारों में इनका होना कुछ हद तक खलता है ।

मेरी उपर्युक्त समीक्षा पूर्णतः त्रुटिहीन हो ऐसा मैं दावा नहीं करना चाहूंगा, क्योंकि मेरा संस्कृत का ज्ञान उच्चस्तरीय नहीं । अपने सीमित ज्ञान के आधार पर ही मेरी टिप्पणियां हैं ।– योगेन्द्र जोशी

Advertisements

One Response to “बधाई, शुभकामना एवं अन्य अवसरों पर प्रयुक्त त्रुटिपूर्ण संस्कृत छंदों का प्रयोग”


  1. […] बधाई, शुभकामना एवं अन्य अवसरों पर प्रय… […]


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: